एक के बाद एक पांच लोग समाते चले गए मौत के मुंह में, जानें क्या है इस कुएं का राज

एक के बाद एक पांच लोग समाते चले गए मौत के मुंह में, जानें क्या है इस कुएं का राज

Amil Shrivas | Publish: Sep, 16 2018 01:53:22 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 01:53:23 PM (IST) Jashpur Nagar, Chhattisgarh, India

फरसाबहार थाने के पंडरीपानी के कंवर बस्ती में जगन्नाथ साय पैकरा के टॉयलेट के सेप्टिक टैंक की सेंट्रिंग खोलने का काम चल रहा था।

जशपुरनगर. जशपुर जिले के फरसाबहार थाना क्षेत्र के पंडरीपानी कंवर बस्ती में एक मकान में नए बन रहे सेप्टिक टैंक की सेन्ट्रीग प्लेट खोलने उतरे 4 मजदूरों और मकान मालकिन की जहरीली गैस की चपेट में आने से दम घुटने से मौत हो गई। घटना के बाद गांव में ही नहीं जिले भर में शोक का माहौल है पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है और घटना की जांच की जा रही है।

जिले के फरसाबहार थाना क्षेत्र के ग्राम पंडरीपानी गांव में सेप्टिक टैंक के अंदर एक महिला समेत 5 लोगों की मौत हो गई है। घटना के संबंध में प्राप्ता जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि फरसाबहार थाने के पंडरीपानी के कंवर बस्ती में जगन्नाथ साय पैकरा के टॉयलेट के सेप्टिक टैंक की सेंट्रिंग खोलने का काम चल रहा था।
एक एक कर मौत की मुंह में समा गए 5 लोग : रविवार की सुबह सबसे पहले जब सेंट्रिंग खोलने एक मिस्त्री टैंक के अंदर घुसा और कुछ देर तक नहीं निकला तो उसे निकालने दूसरा मिस्त्री भी टैंक के अंदर घुसा लेकिन वह भी बाहर नही आ पाया फिर तीसरे मजदूर ने दोनों को निकालने की कोशिश की ओर वह भी अंदर बेहोश हो गया। इसी तरह चार लोग टैंक के अंदर ही बेहोश हो गए। इन चारों को निकालने जब टैंक में मकान मालकिन सावित्री पैकरा अंदर गई तो वह भी वापस नहीं आई। बताया जा रहा है कि टैंक के अंदर जहरीली गैस का इतना दबाव था कि पांचों की मौत हो गई। एक ही गांव मे एक साथ 5 लोगों की मौत से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।
बहरहाल सभी मृतकों का पंचनामा तैयार करके पोस्टमार्टम की कार्यवाही की जा रही है। घटना के बाद गांव पएडरीपानी ही नहीं जिले भर में शोक का वातावरण है। हादसे के शोक में पंडरीपानी में रविवार को लगने वाले साप्ताहिक बाजार और नगर की सभी दुकानों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों को व्यापारियों ने शोक प्रकट करते हुए स्वस्फूर्त बंद कर दिया है।

मृतकों के नाम : भादू साय पिता प्रबल साय 60 वर्ष, ईश्वर साय पिता सुखसाय 40 वर्ष, रामजीवन साय पिता सुखसाय 35 वर्ष, परमजीत पैंकरा पिता संग्राम साय 19 वर्ष, सावित्री पैंकरा पति जगन्नाथ 45, मकान मालकिन.

Ad Block is Banned