सावन सोमवार पर जिले भर में जलाभिषेक के लिए लगी रहीं कतारें

सावन सोमवार पर जिले भर में जलाभिषेक के लिए लगी रहीं कतारें

Murari Soni | Publish: Aug, 13 2019 11:39:04 AM (IST) Jashpur, Jashpur, Chhattisgarh, India

कैलाश गुफा में हजारों कांवडिय़ों ने किया जलाभिषेक, जलाभिषेक के साथ-साथ कीर्तन, हवन पूजन करते रहे श्रद्धालु

जशपुरनगर. सावन के अंतिम सोमवार को शहर के आसपास के शिवालयों में सुबह सवेरे से ही बोल बम के जयकारों के साथ जलाभिषेक शुरु हुआ और पूरे दिन भर शिवालयों में भक्तों का तांता लगा रहा। शिवालयों में सुबह से ही जलाभिषेक करने वालों की कतार लगी रही। बगीचा के कैलाश गुफा में अंतिम सावन सोमवार को हजारों कांवडिय़ों ने पहुंचकर जलाभिषेक किया। वहीं कई जगहों पर भंडारे का भी आयोजन किया गया। सावन सोमवार को शहर सहित ग्रामीण अंचल शिवमय रहा। भक्त कांवरों में जल लेकर शिवालयों में जलाभिषेक करते नजर आए। वर्ष के अंतिम सावन सोमवार होने के कारण मंदिरों में आज अलग ही माहौल था। सभी आयु वर्ग के लोग मंदिरों में जलाभिषेक के साथ-साथ कीर्तन, भजन व हवन पूजन करते रहे। शहर के जेल महादेव, बूढ़ा महादेव, पुरानी टोली, लक्ष्मी गुड़ी, सन्ना रोड़, सिंचाई कालोनी स्थित महादेव मंदिर में सुबह से ही ओम नम: शिवाय की गूंज सुनाई देने लगी थी। अपने हाथों में जलपात्र लेकर श्रद्धालु शिवालयों में कतार लगाए जलाभिषेक के लिए खड़े थे। सावन का अंतिम सोमवार होने के कारण दिन भर शहर में रूद्राभिषेक, महामृत्युंजय जाप के साथ साथ पूजा पाठ चलता रहा।

अंतिम सोमवार को सबसे अधिक भीड़ बगीचा ब्लॉक के कैलाश गुफा में रही। वहां सनातन संत समाज के अंबिकापुर जिला स्थित त्रिकोट आश्रम व बेनगंगा से जल लेकर श्रद्धालु कुसमी, डीपाडीह, शंकरगढ़, सुलेशा होते हुए कैलाश गुफा पहुंचेे। वहीं गहिरा गुरु की जन्मस्थली सेतुबंध रामेश्वर से जल लेकर पत्थलगांव, सीतापुर के रास्ते भी सैकड़ों कांवडि़ए जल चढ़ाने कैलाश गुफा पहुंचे थे। इसी तरह रायगढ़ एवं सारासोर से भी हजारों श्रद्धालुओं ने कैलाश गुफा में जलाभिषेक किया। इन कांवडिय़ों का रास्ते भर स्वागत किया गया। साथ ही उनके खाने-पीने का भी इंतजार लोगों ने किया था। इस दौरान सुरक्षा को लेकर पुलिस की भी पुख्ता व्यवस्था रही।
फतेहपुर मंदिर में हुआ विशाल भंडारा : शहर से लगे फतेहपुर मंदिर में प्रति वर्ष के अनुसार इस वर्ष भी राजकिशोर ताम्रकार के द्वारा भंडारे का आयोजन किया गया था। सावन के अंतिम सोमवार को फतेहपुर मंदिर में पूजा अचैना करने के बाद विशाल भंडारा का आयोजन किया गया था। इस भड़ारे में बड़ी संख्या में लोगों ने पहुंच कर प्रसाद ग्रहण किया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned