भामची नदी में झिरी खोदकर प्यास बुझा रहे सैकड़ों ग्रामीण

जिले के दर्जनों गांवों में पेयजल का संकट, पानी के लिए करनी पड़ रही भारी मशक्कत, काचला फ लिया में पानी के लिए लगती है कतार

By: kashiram jatav

Published: 01 Jun 2020, 10:03 PM IST

राणापुर. भीषण गर्मी के चलते जिले में जलसंकट गहरा गया है। ग्रामीण इलाकों में पानी की समस्या ने विकराल रूप ले लिया है। यहां घंटों लाइनों में लगकर पानी की इंतजाम करना पड़ रहा है।

राणापुर जनपद के गलती पंचायत के काचला फलिया की महिलाएं पानी के लिए सूखी नदी में झिरी खोदकर पानी का इंतजाम कर रही हैं। पिछले 50 सालों से भामची नदी में गडढेे खोदकर यहां के लोग पानी जुटाते हैं। रात को करीब 12 बजे से लाइनों में लग जाती हैं और हाथों से धोबा भरकर पात्र में पानी एकत्रित करती हैं। कचरा फलिया की बसंती ने बताया कि करीब 40. 50 साल से यहां समस्या हैए लेकिन हमारी कोई सुनवाई नहीं की जाती है। यहां तक कि अपने पशुओं को भी पानी कहां से पिलाएं यह भी नहीं मिल पा रहा है। एक अन्य महिला दितु ने बताया कि यहां पर रात 12 बजे से गांव की महिलाएं अपना नंबर लगाती है तो सुबह होने तक उनका पानी का नंबर आता है और बूंद बूंद पानी इक_ा करती है। यहां ना तो कुआं है ना तो हैंडपं । प्रतिदिन इस तरह पानी जुटाना पड़ता है। कभी.कभी पानी के लिए दूसरे गांव मांडलीलालजी जाना पड़ता है। पानी के लिए एक महिला गडढेे में उतरती है वह बारी.बारी से सबको धोबे भर कर देती है। यही क्रम चलता रहता है।

हर फ लिए का अलग-अलग गड्ढा
रा णापुर जनपद की गलती पंचायत में 3 गांव आते हैं जिसमें गलतीए मांडलीलालजी व खेड़ा वहां भामची नदी के आसपास बसा हुआ है। गर्मी के दिनों में नदी पूरी तरह से सूख जाती है। यहां हर फलिया के लिए अलग.अलग गडढेे खोद रखे हैं। गडढेेा को चारों तरफ से लकडिय़ों से पैक कर रखा हैए जिससे कि कोई अन्य पानी न ले सके।
समस्या का समाधान कर दिया जाएगा
&मैं दिखवाता हूंए वहां कोई हेंडपंप खराब हो गया होगाए तो तुरंत सुधरवाता हूं। जल्द ही ग्रामीणों की पानी की समस्या का समाधान कर दिया जाएगा। अभी तत्काल में प्रयास करेंगे उन्हें पानी कोई वैकल्पिक सुविधा उपलब्ध कराएं।
-राहुल सुर्यवंशी, एसडीओ पीएचई राणापुर।

ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की समस्या का तत्काल निराकरण करें: कांतिलाल भूरिया
झाबुआ. जिलेभर में इन दिनों पेयजल की समस्या हो रही है। इससे ग्रामीण परेशान है। विधायक कांतिलाल भूरिया ने कलेक्टर प्रबल सिपाहा एवं कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सेवा से ग्रामीण क्षेत्रों में बिना किसी भेदभाव के तत्काल हैण्डपंप खनन करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कार्यपालन यंत्री से चर्चा कर बताया कि जहां पर पानी की अत्यन्त समस्या है वहां तत्काल प्राथमिकता से हैंण्डपंप खनन और जिन स्थानों पर जलस्तर नीचे चला गया है वहां पर तत्काल पाइप बढ़ाने की मांग गई है। भूरिया ने अवगत कराया कि जिस स्थान पर नलजल योजना संचालित की जा रही है वहां जाकर पेयजल सबंधी समस्याओं का निराकरण करें तथा जहां नई नलजल योजना की स्वीकृति दी है। उसकी गुणवत्ता पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है। भूरिया ने विभाग को जहां पानी की अत्यन्त समस्या है वहां की सूची भी उपलब्ध कराते हुए तत्काल हैण्डपंप खनन की मांग की है।

kashiram jatav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned