मध्यप्रदेश में 80 लाख हेक्टेयर में सिंचाई करूंगा : चौहान

मध्यप्रदेश में 80 लाख हेक्टेयर में सिंचाई करूंगा : चौहान

Arjun Richhariya | Publish: Sep, 07 2018 09:45:36 PM (IST) Jhabua, Madhya Pradesh, India

माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना : 57422 हेक्टेयर सिंचाई होगी, 2050 करोड़ 70 लाख रुपए का व्यय होगा

पेटलावद. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि कांग्रेस के साथ राजा नवाब अग्रेज सबने मिलाकर मप्र में सिंचाई की 7.50लाख हेक्टेयर और मैंने दस बारह साल में 40 लाख हेक्टेयर में सिंचाई कर दी। आगे योजना बनाई है। मप्र में 80 लाख हेक्टेयर में सिंचाई करूंगा। कांग्रेस और भाजपा में फर्क बताते हुए किसानों की परेशानी के बारे में बताया और भाजपा द्वारा किसानों को दिए जा रहे लाभ के बारे में बताया। यदि किसी मां-बाप के पास पैसे नहीं है और उनका बच्चा पढऩे से रह जाए तो इससे बड़ा कोई पाप नहीं होगा। इसलिए मप्र में किसी भी बच्चें को पढ़ाई की चिंता करने की जरूरत नहीं है। उनकी स्कूल से लेकर कॉलेज तक की फीस भाजपा सरकार भरेगी। विधायक निर्मला भूरिया और किसानों के द्वारा सोयाबीन की अफलन की स्थिति के बारे में बताया और मुआवजे की मांग की तो उन्होंने चिंता न करने का कहते हुए मुआवजा देने की बात कही।

खुले में शौच मुक्त होने की घोषणा करने पर जनपद अध्यक्ष मथूरी निनामा, मूलचंद्र निमामा, सरपंच संघ अध्य6द्म मुन्नालाल निनामा और कालूसिंह निनामा ने जिला पंचायत की ओर से 51 किलो की माला से मुख्यमंत्री का स्वागत किया। मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में 2000 से अधिक पुलिसकर्मी लगे थे। इसके साथ ही मंडी से उत्कृष्ट परिसर तक 1 किमी के मार्ग पर केवल पुलिस कर्मी दिखाई दे रहे थे।
आधे कपड़े उतार कर विरोध किया : मुख्यमंत्री से मिलने के लिए किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष महेंद्र हामड़ और जितेंद्र पाटीदार सहित सदस्यों ने पुलिस से चर्चा की तो उन्होंने इजाजत नहीं दी। इसके बाद सदस्यों ने शर्ट और बनियान उतार कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने एक सदस्य को बात करने के लिए बुलाया और समस्या जानी। किसान जितेंद्र पाटीदार ने बताया कि सोयाबीन की फसल में अफलन की स्थिति बन गई है। इससे किसानों को नुकसान हो रहा है। जिस पर मुख्यमंत्री ने मुआवजे का आश्वासन दिया।
मुख्यमंत्री ने यहां माइक्रो उद्वहन सिंचाई योजना का भूमिपूजन किया। इससे बनने से झाबुआ जिले की झाबुआ, पेटलावद, थांदला, मेघनगर और धार जिले की सरदारपुर तहसीलों को 57422 हेक्टेयर सिंचाई का लाभ मिलेगा। योजना के तहत धार जिले के ग्राम मलवाड़ी के पास से नर्मदा का जल उद्वहन किया जाएगा। यह जल 460 मीटर ऊंचाई तक 18 घनमीटर प्रति सेकंड की क्षमता से धार जिले के ग्राम जाली में निर्मित जंक्शन संरचना में पहुंचेगा। यहां संग्रहित जल ग्रेविटी प्रवाह से खेतों तक पाइप लाइन से पहुंचाया जाएगा। योजना से झाबुआ जिले की झाबुआ तहसील के 73 गांवों का 15123 हेक्टेयर, थांदला तहसील के 32 गांवो ंका 546 3 हेक्टेयर, पेटलावद तहसील के 24 गांवों का 7355 हेक्टेयर और मेघनगर तहसील के 18 गांवों का 4059 हेक्टेयर रकबा सिंचित होगा। योजना से धार जिले की सरदारपुर तहसील के 55 गांवों को भी 25422 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का लाभ मिलेगा। इस योजना निर्माण पर 2050 करोड़ 70 लाख रुपए खर्च अनुमानित है।

नगर परिषद पेटलावद को 1 करोड़ की सौगात
मुख्यमंत्री चौहान ने पेटलावद नगर परिषद मे विकास कार्यो के लिए 1 करोड़ रुपए विशेष निधि से देने की घोषणा की। भूमिपूजन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने संबल योजना, उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रसूति सहायता योजना सहित अन्य योजनाओं के हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण किया। ग्रामीण क्षेत्रों में जिला ओडीएफ होने से सरपंचों, विधायकों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों ने मंच पर पुष्पहार पहनाकर, जिले की संस्कृति के प्रतीक चिह्न तीर कमान भेंट कर एवं आदिवासी झूलड़ी पहनाकर मुख्यमंत्री का अभिवादन किया। भूमिपूजन के बाद मंच पर कन्याओं के पैर धोकर कन्यापूजन कर, कन्याओं को उपहार एवं श्रीफल भेंट किए। कार्यक्रम में स्वागत भाषण विधायक निर्मला भूरिया ने दिया। नर्मदा विकास प्राधिकरण के सीएस रजनीश वैश्य ने मंच से नर्मदा झाबुआ पेटलावद उद्वहन परियोजना की जानकारी दी। इस मौके पर मंच पर भाजपा विधायक शांतिलाल बिलवाल, कलसिंह भाबर, सरदारपुर विधायक वेलसिंह भूरिया, भाजपा जिलाध्यक्ष मनोहर सेठिया, पूर्व अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह मोटापाला, दौलत भावसार, जिला महामंत्री प्रवीण सुराना, जिला उपाध्यक्ष हेमंत भट्ट,नप अध्यक्ष मनोहर भटेवरा, जनपद अध्यक्ष मथूरी मूलचंद्र निनामा. जीएस डामोर उपस्थित थे।

Ad Block is Banned