निर्वाचन आयोग ने मतदान को लेकर लिया बड़ा निर्णय, जारी किए ये दिशा निर्देश

निर्वाचन आयोग ने मतदान को लेकर लिया बड़ा निर्णय, जारी किए ये दिशा निर्देश

Neeraj Patel | Publish: Apr, 19 2019 06:50:47 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

निर्वाचन आयोग ने फर्जी मतदान रोकने के लिए कुछ बड़े निर्णय लिए हैं।

झांसी. निर्वाचन आयोग ने फर्जी मतदान रोकने के लिए कुछ बड़े निर्णय लिए हैं। इस संबंध में जारी किए गए दिशा निर्देशों के बारे में जिला निर्वाचन अधिकारी ने पीठासीन अधिकारी व मतदान अधिकारियों को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वोटिंग कम्पार्टमेंट ऐसे स्थान पर बनायें, जहां से मतदान की गोपनीयता भंग न हो। साथ ही अगर वहां सीसीटीवी कैमरा है तो उसे बंद कर दें व कैमरे को काले कपड़े से ढक दें। उन्होंने पीठासीन अधिकारी से कहा कि भारत निर्वाचन आयोग ने इस बार वोटर पर्ची को मान्यता नहीं दी है। वोट करने के लिए आयोग द्वारा 11 विकल्प दिए गये हैं, उनमें से कोई एक साथ लाना होगा, तभी मतदान कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि मतदान हेतु आधार कार्ड के प्रयोग पर संवेदनशील होकर जांच करें, ताकि फर्जी वोटिंग न हो सके। पोलिंग ऐजेन्ट अपने साथ मोबाइल नहीं रखेगे। साथ ही आईडी कार्ड अपने पास रखें, यह भी सुनिश्चित कर लें।

उत्सव की तरह मनाएं लोकतंत्र का महापर्व

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि मतदान लोकतंत्र का महापर्व है। इसमें सभी अपने पूर्ण मनोभाव से हिस्सा लें। इसे उत्सव की तरह मनायें। आप सभी का सहयोग महत्वपूर्ण है। पोलिंग पार्टी क्षेत्र में आतिथ्य स्वीकार न करें। मतदेय स्थल पर रवाना होने से पूर्व चेक लिस्ट से सामान का मिलान अवश्य कर लें। मतदेय स्थल के अंदर सीसीटीवी कैमरा बंद रखे जाएं, ताकि मतदान की सुचिता प्रभावित न हो। पीठासीन अधिकारी संवेदनशील होकर अपने कार्यों का निवर्हन करें। प्रातः जल्द उठकर मतदान की सभी तैयारियों पूर्ण कर लें, ताकि समय से मतदान प्रारम्भ हो सके।

पारदर्शिता के साथ हो चुनाव

जिला निर्वाचन अधिकारी शिव सहाय अवस्थी यहां पैरामेडीकल आडीटोरियम में ईवीएम तथा वीवीपैट के संबंध में आयोजित प्रशिक्षण सत्र के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान मास्टर ट्रेनर द्वारा जो जानकारियां दी जा रही हैं, उन्हे बेहद संवेदनशील होकर आत्मसात करें। यदि कोई बात समझ नहीं आये तो बिना संकोच पुनः जानकारी लें और सारी जिज्ञासाओं को शान्त करें, ताकि निर्वाचन शुद्ध, सुचिता, पारदर्शिता के साथ सम्पन्न हो सके।

बेहद संवेदनशील है वीवीपैट

मास्टर ट्रेनर ईवीएम/वीवीपैट आर.के. मौर्या ने प्रशिक्षण सत्र के दौरान बताया कि वीवीपैट बेहद संवेदनशील है। उसे सीधे धूप व अधिक गर्मी से बचाया जाना महत्वपूर्ण है। उन्होंने बीयू-सीयू के साथ वीवीपैट को कैसे लिंक किया जाना है, इसकी जानकारी दी और बताया कि लिंक करते समय जोर आजमाइश का इस्तेमाल न करें। साकेट दबाकर ही लिंक करें। उन्होंने मॉकपोल के बारे में बताया कि यह बेहद महत्वपूर्ण है। इसे पोलिंग एजेन्ट के समक्ष किया जाना है। मॉकपोल में कम से कम 50 वोट डाले जाने हैं ताकि पोलिंग एजेन्ट संतुष्ट हो जाएं। सभी पोलिंग एजेन्ट से प्रमाण-पत्र पर हस्ताक्षर अवश्य करा लें।

ये लोग रहे उपस्थित

इस मौके पर सामान्य प्रेक्षक डा. रेनु एस. फलिया, प्रभारी कार्मिक/मुख्य विकास अधिकारी निखिल टीकाराम फुंडे, सहप्रभारी कार्मिक/पीडी डा. आर.के. गौतम, डीडीओ उग्रसेन सिंह यादव, डी. यादुवेन्द्र सहित अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित रहे।

 

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned