मेरी झांसी-मेरा बुंदेलखंड : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से रानी लक्ष्मीबाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय में कई भवनों का किया लोकार्पण

By: Hariom Dwivedi

Published: 29 Aug 2020, 04:40 PM IST

झांसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय झांसी के प्रशासनिक भवन, छात्रावास सहित कई भवनों का लोकार्पण करते हुए 'मेरी झांसी-मेरा बुंदेलखंड' का नारा दिया। कहा कि बुंदेलखंड की धरती पर कभी रानी लक्ष्मीबाई ने गर्जना की थी कि 'मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी।' आज एक नई गर्जना की आवश्यकता है। आत्मनिर्भर भारत का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे, डिफेंस कॉरिडोर और हजारों करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट से यहां हजारों लोगों के लिए रोजगार के अवसर बनें। वह दिन दूर नहीं जब वीरों की यह भूमि देश को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में अहम भूमिका अदा करेगी। यहां 'जय जवान, जय किसान और जय विज्ञान' का मंत्र चारों दिशाओं में गूंजेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का प्रयास किसानों को एक उत्पादक के साथ ही उद्यमी बनाने का भी है। जब किसान और खेती, उद्योग के रूप में आगे बढ़ेगी तो बड़े स्तर पर गांव में और गांव के पास ही रोजगार और स्वरोजगार के अवसर तैयार होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान को सफल बनाने के लिए कृषि की बहुत बड़ी भूमिका की है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए झांसी का यह कृषि विश्वविद्यालय पूरी ताकत लगा देगा। उन्होंने कहा कि कृषि से जुड़ी शिक्षा को, उसकी प्रैक्टिकल एप्लीकेशन को स्कूल स्तर पर ले जाना भी आवश्यक है। हमारी सरकार का प्रयास है कि गांव के स्तर पर मिडिल स्कूल लेवल पर ही कृषि के विषय को लागू किया जाए। इससे गांव के बच्चों में खेती से जुड़ी स्वभाविक समझ का विस्तार होगा और खेती और इससे जुड़ी तकनीक, व्यापार-कारोबार के बारे में अपने परिवार को ज्यादा जानकारी दे पाएगा।

उन्होंने कहाकि कृषि में आत्मनिर्भरता सिर्फ खाद्यान्न तक ही सीमित नहीं है। बल्कि ये गांव की पूरी अर्थव्यवस्था की आत्मनिर्भरता की बात है। यह देश में खेती से पैदा होने वाले उत्पादों में वैल्यू एडिशन करके देश और दुनिया के बाजारों में पहुंचाने का मिशन है। उन्होंने कहा कि कृषि में स्टार्ट अप के नये-नये रास्ते खुल रहे हैं। अब तो बीज से लेकर बाजार भी तकनीक पर आधारित हैं। कृषि क्षेत्र में भी अब तकनीक के प्रयोग से फसल में इजाफा होने से किसान भी पहले से बेहतर की स्थिति में हैं।

50 हजार लोग ऑनलाइन हुए थे शामिल
प्रधानमंत्री ने कहा कि छह वर्ष पहले जहां देश में सिर्फ एक केंद्रीय कृषि विश्विद्यालय था, आज तीन केंद्रीय एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटीज काम कर रही हैं। इसके अलावा तीन और राष्ट्रीय संस्थान आइएआरए झारखंड, आइएआरए असोम तथा बिहार के मोतीहारी में महात्मा गांधी इंट्रीग्रेटेड फार्मिंग की स्थापना की जा रही है। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी मौजूद रहे। इस दौरान देशभर के आईसीएआर के सभी 101 संस्थान, 75 कृषि विश्वविद्यालय, 721 कृषि विज्ञान केंद्र से लगभग 50 हजार लोग कार्यक्रम में ऑनलाइन शामिल थे।

वर्ष 2014-15 में शुरू हुआ था पहला शैक्षणिक सत्र
रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय में करीब 127 करोड़ की लागत से शैक्षणिक भवन बनाए गए हैं, जबकि 29 करोड़ की लागत से प्रशासनिक भवन और 16 करोड़ की लागत से 2 छात्रावास बनकर तैयार हुए हैं। वर्ष 2014-15 में रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने अपना पहला शैक्षणिक सत्र शुरू किया। यहां कृषि, बागवानी और वानिकी में स्नातक और स्नातकोत्तर दोनों पाठ्यक्रमों की पेशकश की जा रही है। अभी तक यह विश्वविद्यालय झांसी में 'इंडियन ग्रासलैंड एंड फोड्डर रिसर्च इंस्टीट्यूट, के परिसर में चल रहा था।

BJP Narendra Modi PM Narendra Modi
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned