script 150 सरकारी स्कूलों के टीचरों का रुका वेतन, बच्चों की उपस्थिति मिली कम | Salary of teachers of 150 government schools stopped | Patrika News

150 सरकारी स्कूलों के टीचरों का रुका वेतन, बच्चों की उपस्थिति मिली कम

locationझांसीPublished: Nov 25, 2023 08:32:10 am

Submitted by:

Ramnaresh Yadav

बच्चों की कम उपस्थिति पर 150 बेसिक विद्यालयों के शिक्षकों का वेतन रोका। बीएसए ने सीएम डेस्क बोर्ड के माध्यम से की गयी समीक्षा के बाद की कार्यवाही। 45 फीसदी से कम उपस्थिति वाले विद्यालयों के प्रधानाचार्य व सभी शिक्षकों से मांगा स्पष्टीकरण। एक सप्ताह में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति बढ़ाने के लिए कहा।

Jhansi government teacher
झांसी में टीचरों की रोकी गई वेतन।
झांसी में बेसिक विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति लगातार कम हो रही है। जनपद में 150 से अधिक विद्यालयों में छात्रांकन के सापेक्ष बच्चों की उपस्थित 45 फीसदी तक पहुंच गयी। डीएम डेस्क बोर्ड की समीक्षा के बाद इस पर नाराजगी जतायी गयी। इस पर बीएसए नीलम यादव ने बड़ी कार्यवाही करते हुए सभी विद्यालयों के शिक्षक- शिक्षिकाओं की नवम्बर माह की वेतन तथा शिक्षामित्रों के मानदेय पर रोक लगा दी है। खण्ड शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं से स्पष्टीकरण लेने के आदेश दिए गए हैं।

बच्चों की उपस्थिति को लेकर हुई थी समीक्षा

बीएसए ने 1 से 19 नवम्बर तक विद्यालयों में छात्र-छात्राओं की उपस्थिति को लेकर समीक्षा की। इस माह के इन 11 कार्य दिवस में कई विद्यालयों में नामांकन की अपेक्षा 45 फीसदी ही उपस्थिति अंकित पायी गयी। इस बीच, डीएम डेस्क बोर्ड ने मध्याह्न भोजन प्राधिकरण द्वारा विद्यालय में भोजन करने वाले विद्यार्थियों की उपस्थिति के आधार पर स्कूल में बच्चों की उपस्थिति की समीक्षा की।

45 फीसदी पाई गई उपस्थिति

इन दोनों स्तर की समीक्षा में जनपद के लगभग 150 विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति 45 फीसदी पायी गयी। इन विद्यालयों की सूची बनाकर सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को भेज दी गयी है। इन सभी विद्यालयों के सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं का माह नवम्बर का वेतन व शिक्षामित्रों का मानदेय रोकने के आदेश दिए हैं। साथ ही सभी शिक्षकों के स्पष्टीकरण लेकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालयों में भिजवाने को कहा है। इधर, उच्चाधिकारियों ने भी समीक्षा की और जनपद के बेसिक विद्यालयों की औसत उपस्थिति 60 फीसदी से कम पायी गयी, यह कई जनपदों से काफी कम है।

ट्रेंडिंग वीडियो