गूगल (Google)पर सीखा तरीका, फिर गाड़ी चुराना हो गया उनके बाएं हाथ का काम

गूगल (Google)पर सीखा तरीका, फिर गाड़ी चुराना हो गया उनके बाएं हाथ का काम

Brij Kishore Gupta | Updated: 11 Jul 2019, 11:06:57 AM (IST) Jhansi, Jhansi, Uttar Pradesh, India

गूगल (Google)पर बाइक को अनलॉक करने का तरीका सर्च करके गाड़ियां चुराने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से चोरी का अनेक गाड़ियां भी बरामद की गई है।

झांसी। गूगल (Google)पर बाइक को अनलॉक करने का तरीका सर्च करके गाड़ियां चुराने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से चोरी का अनेक गाड़ियां भी बरामद की गई है। तीनों आरोपियों ने समूचे बुंदेलखंड क्षेत्र में कई वारदात को अंजाम दिया है। इन आरोपियों के पकड़े जाने पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा ओ पी सिंह ने इस मामले का खुलासा किया है।
महोबा और झांसी के रहने वाले हैं आरोपी
एसएसपी ने बताया कि नवाबाद थाने की पुलिस वाहन चोरी करने वाले गिरोह के सदस्यों की तलाश में थी। तभी सूचना मिली कि तीन बदमाश चोरी की बाइक लेकर बेचने आ रहे हैं। इस सूचना पर गई टीम ने घेराबंदी कर तीनों को पकड़ लिया। एसएसपी के मुताबिक महोबा के थाना कोतवाली के ग्राम रैपुरा निवासी कौशल उर्फ वकील खंगार, बड़ागांव थाना क्षेत्र के ग्राम दुनारा निवासी विनीत अहिरवार और महोबा के थाना कोतवाली के ग्राम बम्हौरी गुसाई निवासी अवधेश यादव को गिरफ्तार कर लिया। तीनों के कब्जे से चोरी की तीन बाइक बरामद की गई हैं। तीनों की निशानदेही पर करगुआंजी पहाड़ी के पीछे आकाशवाणी केंद्र के पास बने कमरे नौ मोटर साइकिलें व एक कटी हुई मोटर साइकिल के पार्ट्स बरामद किए गए। इस तरह कुल तेरह बाइक बरामद की गई हैं। इन लोगों ने बताया कि गूगल (Google) से तरीका सर्च करके बाइक चोरी करते थे।
जल्द अमीर बनने की थी ख्वाहिश
एसएसपी के अनुसार पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि वह लोग जल्दी अमीर बनना चाहते थे, लेकिन कोई ऐसा काम नहीं मिल रहा था जिससे पैसा कमाया जा सके। इसके बाद इन्होंने बाइक के लॉक खोलने के तरीके गूगल (Google) पर सर्च किए और वाहन चोरी करने लगे। आरोपी रात में निकलते थे और घर के बाहर, गली में, दुकान के बाहर जो बाइक दिखती उसे अनलॉक करने की कोशिश करते। जैसे ही बाइक अनलॉक होती ये उसे लेकर फरार हो जाते। चोरी की बाइकों पर ये लोग फर्जी नंबर प्लेट और नकली कागजात बनाकर बेचने का भी प्लान कर रहे थे। उन्होंने बताया कि कौशल उर्फ वकील के खिलाफ 12 मुकदमे और अवधेश यादव के खिलाफ छह मुकदमे पंजीकृत हैं। यह मुकदमा महोबा, टोड़ीफतेहपुर, मऊरानीपुर, नवाबाद, टहरौली थाना में पंजीकृत हैं।
पुलिस टीम को मिलेगा 25 हजार का इनाम
इस मामले के खुलासे के दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ ओ पी सिंह ने बताया कि पुलिस टीम में शामिल नवाबाद थाना प्रभारी निरीक्षक देवेन्द्र कुमार द्विवेदी, चौकी प्रभारी दिनेश कुमार पांडेय, मेडिकल कालेज चौकी प्रभारी शिवशंकर प्रताप तिवारी, उपनिरीक्षक जयगोविन्द्र सिंह, कांस्टेबल अभिनेश्वर तिवारी, शीलेन्द्र सिंह भदौरिया, उपेन्द्र शर्मा व हेड कांस्टेबल राजेश कुमार को सराहनीय कार्य करने के लिए 25 हजार के इनाम की घोषणा की गई है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned