पत्थरों की खदान के नीचे भरे पानी में डूबने से दो बालकों की मौत, स्कूल से छुट्टी के बाद दोस्तों के साथ गए थे नहाने

मैनपुरा पंचायत के हीरवाना गांव में बुधवार को पत्थरों की खदान के नीचे जमा पानी में डूबने से दो बालकों की मौत हो गई।

By: kamlesh

Published: 24 Mar 2021, 09:23 PM IST

झुंझुनूं/गुढागौडज़ी। मैनपुरा पंचायत के हीरवाना गांव में बुधवार को पत्थरों की खदान के नीचे जमा पानी में डूबने से दो बालकों की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार चंवरा निवासी मृतक बालक सचिन(12) पुत्र रामकुमार गुर्जर व अब्बास(13) पुत्र मिसबाद्दीन स्कूल से छुट्टी के बाद अपने दोस्तों के साथ खदान के नीचे तालाब रूपी जमा पानी में नहाने के लिए गए थे। खदान की तलहटी में जमा पानी की गहराई को नहाने आए बालक भांप नहीं पाए तथा उसके बीच में नहाने उतर गए।

इस जमा पानी के बीच में कई जगह पत्थर भी डूबे हुए थे, जिसके कारण उसकी गहराई का अंदाजा लगाना मुश्किल हो गया था। स्कूल से छुट्टी के बाद नहाने आए चार दोस्तों में से दो बालकों की मौत हो गई तथा दो बालक घटनास्थल से डरकर भाग गए। जिसके बाद उन्होंने घर जाकर परिजनों घटना की जानकारी दी। जिसके बाद घटनास्थल पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई तथा सूचना के कुछ ही देर बार पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।

इस तरह हुई घटना और डूब गए दो बालक
चंवरा गांव की रविंद्र बाल स्कूल की कक्षा आठ में पढने वाले चार बालक छुट्टी के बाद इस तालाब में नहाने के लिए आए थे। चारों बालक नहाने के लिए पानी में उतर गए थे। उस दौरान सचिन नहाते समय बीच गहराई में फंस गया जिसको बचाने के लिए अब्बास भी उसकी तरफ आगे बढा। दोनों ही बालक एक दूसरे को पकडक़र खींचतान करते रहे। पानी की गहराई ज्यादा होने तथा दोनों को तैरने का ज्ञान नहीं होने के कारण वे दो बालक तालाब में डूब गए। उनको डूबते देखकर साथ वाले दोनों बालक घबरा गए जिसके बाद वे वहां से भागकर घर आए तथा परिजनों की घटना की जानकारी दी।

पांच घंटे चला रेस्क्यू
घटना के बाद स्थानीय तैराकों ने पानी में डूबे दोनों बालकों को ढुंढना शुरू किया। लेकिन तालाब में पत्थर पड़े होने के कारण वे काफी देर तक शवों को तलाश करते रहे। तलाश करने के करीब तीन घंटों बाद भी शवों के नहीं मिलने पर मोटरों से पानी बाहर निकालना शुरू किया गया। करीब पांच घंटे बाद की मशक्कत के बाद दोनों बालकों के शव पानी में पत्थर के नीचे फंसे मिले।

शवों को लेकर धरने पर बैठे परिजन व ग्रामीण
घटना की जानकारी मिलने के कुछ देर बाद ही गुढागौडज़ी पुलिस,नवलगढ डिप्टी सतपाल सिंह तथा एसडीएम राजेंद्र सिंह मौके पर पहुंच गए थे। पांच घंटे बाद जैसे ही दोनों ही बालकों के शव मिले तो परिजन व ग्रामीण शवों को लेकर धरने पर बैठ गए। सुरेश मीणा किशोरपुरा के नेतृत्व में ग्रामीणों ने प्रशासन से मृतक परिवार को उचित मुआवजा दिलाने,खदान को तारबंदी लगाकर बंद करवाने तथा खदान के संचालक के खिलाफ कानूनक कार्रवाई करने की मांग की है। समाचार भेजे जाने तक ग्रामीण धरने पर बैठे रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned