कोरोनाकाल में किसानों की मदद: टोल फ्री नंबर पर फोन करो, मुफ्त में होगी खेत की बुआई

ढाई एकड़ से कम भूमि वाले प्रदेश के किसान अपने खेतों में मुफ्त में ट्रैक्टर से जुताई-बुआई करवा सकते हैं। इसके लिए किसानों को टोल फ्री नंबर 18004200100 पर फोन कर रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। रजिस्ट्रेशन होने के बाद आपके खेत में बुआई या जुताई के लिए ट्रैक्टर पहुंच जाएगा। किसान टोल फ्री नंबर के अलावा जेएफ सर्विस एप पर भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

By: Jitendra

Published: 09 Jun 2021, 10:04 AM IST

झुंझुनूं. कोरोना की दूसरी लहर के प्रभाव के चलते देश-प्रदेश का हर वर्ग आर्थिक रूप से कमजोर हुआ है। ऐसे में किसान वर्ग भी प्रभावित हुआ है। कोरोनाकाल में छोटे किसानों को राहत देने के लिए टैफे कंपनी की ओर से निशुल्क ट्रैक्टर रेंटल योजना शुरू की है। जिसके तहत ढाई एकड़ से कम भूमि वाले प्रदेश के किसान अपने खेतों में मुफ्त में ट्रैक्टर से जुताई-बुआई करवा सकते हैं। इसके लिए किसानों को टोल फ्री नंबर 18004200100 पर फोन कर रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। रजिस्ट्रेशन होने के बाद आपके खेत में बुआई या जुताई के लिए ट्रैक्टर पहुंच जाएगा। किसान टोल फ्री नंबर के अलावा जेएफ सर्विस एप पर भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।


दो महीने मिलेगी सेवा
-टैफे के सहयोग से केवल मैसी फग्यूर्सन एवं आयशर मेके की ओर से जून और जुलाई दो महीने छोटे किसानों को मुफ्त में सेवाएं दी जाएंगी। योजना के अंतर्गत फसल बुआई के लिए भूमि तैयारी के लिए आवश्यक कृषि यंत्र यथा प्लाऊ, रोटावेटर, कल्टीवेटर, सीड कम फर्टिलाइजर, ड्रिल मशीन आदि उपलब्ध कराए जाएंगे तथा एक किसान का केवल एक ही आर्डर मान्य होगा। प्रदेश में इसके लिए एक जून से 31 जुलाई तक 41800 से अधिक ट्रैक्टर्स एवं 116700 से अधिक कृषि यंत्रों के मालिकों के माध्यम से सेवाएं मुहैया कराई जाएंगी।


पिछले कोरोनाकाल में उठाया था 27 हजार से अधिक फायदा
पिछली बार कोरोना महामारी के दौरान एक अप्रेल 2020 से 31 जुलाई 2020 तक फर्म की ओर से प्रदेश के 27 हजार 379 किसानों को एक लाख से अधिक घंटों की निशुल्क सेवा उपलब्ध कराई गई थी। जिससे छोटे किसानों को काफी संबल मिला है।


इनका कहना है....
टैफे कंपनी की ओर से निशुल्क ट्रैक्टर रेंटल योजना शुरू की है। जिसके तहत ढाई एकड़ से कम भूमि वाले किसानों अपने खेतों में मुफ्त में ट्रैक्टर से जुताई-बुआई करवा सकते हैं। इसके लिए किसानों को टोल फ्री नंबर व एप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद ट्रैक्टर आपके खेत में आकर मुफ्त में बुआई और जुताई कर देगा।
-डा. विजयपाल कस्वां, सहायक निदेशक कृषि विस्तार (झुंझुनूं)

Jitendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned