स्कूल की कमेटी तय करेगी दसवीं बोर्ड का परिणाम

केंद्रीय बोर्ड परीक्षा के जिला समन्वयक डॉ. रवि शर्मा ने बताया कि दसवीं बोर्ड का परिणाम तैयार करने के लिए बोर्ड ने नियमबद्ध प्रक्रिया तय की है। इसके तहत स्कूल स्तर पर कमेटी बनेगी। इसमें स्कूल का प्राचार्य कमेटी का अध्यक्ष होगा। स्कूल के पांच विषय अध्यापक होंगे तथा दो अध्यापक नजदीकी केंद्रीय बोर्ड विद्यालय के शामिल करने होंगे। इस कमेटी का गठन 5 मई तक करना होगा।

By: Rajesh

Published: 04 May 2021, 11:04 PM IST


#cbse result 2021#10

झुंझुनूं. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड सत्र 2020-21 में अध्ययनरत 10वीं के विद्यार्थियों को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर परिणाम जारी करेगा। इसमें विद्यार्थी के पास विकल्प रहेगा कि वह परिणाम से संतुष्ट नहीं है तो परीक्षा में शामिल हो सकता है।
देशभर में चल रहे कोरोना महामारी को देखते हुए केंद्रीय बोर्ड ने आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर दसवीं बोर्ड के बच्चों का परिणाम जारी करने की पॉलिसी जारी की है। केंद्रीय बोर्ड परीक्षा के जिला समन्वयक डॉ. रवि शर्मा ने बताया कि दसवीं बोर्ड का परिणाम तैयार करने के लिए बोर्ड ने नियमबद्ध प्रक्रिया तय की है। इसके तहत स्कूल स्तर पर कमेटी बनेगी। इसमें स्कूल का प्राचार्य कमेटी का अध्यक्ष होगा। स्कूल के पांच विषय अध्यापक होंगे तथा दो अध्यापक नजदीकी केंद्रीय बोर्ड विद्यालय के शामिल करने होंगे। इस कमेटी का गठन 5 मई तक करना होगा। इसी दिवस तक पिछले बोर्ड परीक्षा के विषय वार व स्कूल वार अंकों का वितरण बोर्ड वेबसाइट पर अपलोड करना होगा। स्कूल के गत तीन वर्षों का परिणाम एवं इस सत्र में आयोजित मूल्यांकन संबंधी दस्तावेज 10 मई तक पूर्ण करने होंगे। अगर परिणाम संबंधित कोई मूल्यांकन करना हो तो 15 मई तक किया जा सकेगा। स्कूल स्तर पर 25 मई तक परिणाम का कार्य पूर्ण किया जाना है। इस परिणाम की जांच और सुधार कार्य 28 मई तक हो सकेगा। 5 जून को केंद्रीय बोर्ड को रिपोर्ट प्रेषित करनी होगी। 11 जून तक आंतरिक मूल्यांकन के अंक भी प्रेषित करने होंगे। इसके बाद 20 जून को केंद्रीय बोर्ड द्वारा परिणामों की घोषणा की जाएगी।

संतुष्टि के लिए परीक्षा भी

केंद्रीय बोर्ड ने बच्चों की मानसिक स्थिति मजबूत बनाए रखने के लिए परीक्षा का ऑप्शन भी रखा है। बोर्ड द्वारा जारी पॉलिसी में प्रावधान किया गया है कि अगर कोई विद्यार्थी परिणामों से संतुष्ट नहीं हो तो वह आगामी परीक्षा में शामिल हो सकता है। उसे परीक्षा परिणाम के आधार पर अंक दिए जा सकेंगे। ऐसे विद्यार्थी को आगामी कक्षा में पढ़ाई का अवसर भी मिल सकेगा।
3 महीने ही हुई पढ़ाई
ऐसा पहली बार हुआ है जब मात्र 3 महीने की पढ़ाई पर ही दसवीं बोर्ड के परिणाम जारी होंगे। राजस्थान में सरकार ने 18 जनवरी 2021 को बोर्ड कक्षायें लगाने की अनुमति दी थी और 18 अप्रैल को फिर बंद कर दी गई। इस तरह बच्चों की मात्र 90 दिन की पढ़ाई ही हो पाई।

यूं होगी अंको की गणित

दसवीं बोर्ड परीक्षा में हर विषय के पूर्व में निर्धारित 100 अंक होंगे। इसमें 20 अंक आंतरिक मूल्यांकन के होंगे। 10 अंक पहले क्लास टेस्ट, 30 अंक दूसरा टेस्ट या अद्र्ध वार्षिक परीक्षा और 40 अंक प्री बोर्ड परीक्षा को आधार बनाकर तय किए जाएंगे।
स्कूल रिकार्ड भी रखेगा मायने
इस साल दसवीं का परिणाम तैयार करने में संबंधित स्कूल का रिकॉर्ड भी खास अहमियत रखेगा। बोर्ड ने पिछले तीन साल के परिणामों को आधार बनाया है। इस सत्र में पिछले 3 सालों से ऊपर परिणाम नहीं हो सकेगा।

झुंझुनूं जिला एक नजर

दसवीं बोर्ड विद्यार्थी :25000+
केन्द्रीय बोर्ड स्कूल : 75

गत परीक्षा में केंद्र : 13
अब संभावित केंद्र : 20+

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned