राजस्थान का प्रेमगिरी मठ, संकट के समय आया आगे, हर दिन बना रहे 3 हजार का भोजन

भोजन का पैकेट देते समय किसी भी जरूरतमन्द की फोटो लेने की भी सख्त मनाही है। भोजन पहुंचाने में लगे समाजसेवी एवं कार्यकर्ता इस बात का पूरा ध्यान रखते है कि हर व्यक्ति व जरूरतमन्द के स्वाभिमान का ध्यान रखा जाए।

By: Rajesh

Published: 05 Apr 2020, 05:40 PM IST



भोजन देते समय फोटो लेने पर सख्त रोक

रमाकांत वर्मा

मलसीसर(झुंझुनूं). महामारी के दौर में मलसीसर का प्रेमगिरी मठ जरूरतमंद जनता का सहारा बना है। यहां हर दिन करीब तीन हजार लोगों का भोजन बनाया जा रहा है।
कस्बे व आस-पास के क्षेत्र में सुबह-शाम जरूरतमन्द लोगों के लिए भोजन के पैकेट पहुंचाए जा रहे हैं। लॉकडाउन के दौरान कस्बे का कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहे इसलिए मठ के महन्त बाबा आनन्द गिरी युवाओं की सहायता से हर वार्ड के घर-घर में खाने के पैकेट भिजवा रहे हैं। भोजन का पैकेट देते समय किसी भी जरूरतमन्द की फोटो लेने की भी सख्त मनाही है। भोजन पहुंचाने में लगे समाजसेवी एवं कार्यकर्ता इस बात का पूरा ध्यान रखते है कि हर व्यक्ति व जरूरतमन्द के स्वाभिमान का ध्यान रखा जाए।

#premgiri math

लॉकडाउन के बाद में कई परिवार ऐसे थे जिन्हं दो समय की रोटी का जुगाड करने में काफी परेशानी हो रही थी। लोगों की परेशानी को देखते हुए बाबा प्रेमगिरी मठ के महन्त आनन्दगिरी ने मठ की बाड़ी में लंगर लगाना शुरू कर दिया था। ऐसे में भीड़ होने लगी। इसके बाद वाहनों की व्यवस्था कर कस्बे के हर वार्ड में भोजन की गाड़ी भेज कर जरूरतमन्द लोगों को भोजन के पैकेट वितरित किए जा रहे हंै।

पैकेट के साथ संदेश भी

भोजन वितरित करने के साथ लोगों को कोरोना वायरस के प्रति सजग रहने का संदेश भी दिया जा रहा है।
भोजन के पैकेट वितरित के लिए कस्बे के लोगों ने अपने वाहन भी उपलब्ध करवाए हैं। जिससे आसानी से जरूरतमन्द तक भोजन पहुंचाया जा सके। बाबुलाल प्रजापत, नरेन्द्र जांगिड, पवन चौमाल, रतनलाल स्वामी, जितेन्द्र स्वामी, रमेश हमीरवासिया, बोल्टू शर्मा सहित काफी कार्यकर्ता टीम बनाकर कार्य में सहयोग कर रहे हैं।


लाडसर में बांट रहे भोजन के किट
झुंझुनूं. ग्राम पंचायत भोजासर के ग्राम लाडसर में पूर्व सरपंच ओमप्रकाश मील की ओर से गांव के जरूरतमंद परिवारों को खाद्य सामग्री के किट वितरित किए जा रहे हैं। ग्राम के युवाओं की एक टीम को कोरोना से बचाव के उचित प्रशिक्षण के बाद सामग्री वितरण का कार्य करवाया गया। वितरण करने वाली टीम ने मास्क पहनकर एवं हाथो ंको सेनेटाइजर से साफ कर 225 किट का वितरण किया। आगे भी योजनाबद्ध तरीके से वंचित परिवारों की पहचान कर वितरण किया जाएगा।
ओमप्रकाश मील के चचेरे भाई डॉ. वीरेन्द्र सिंह मील राज्य सरकार द्वारा गठित सात सदस्य कोरोना सलाहकार समिति के सदस्य हैं। मील के पुत्र सुरेश कुमार मील व डॉ. दिनेश मील भी सेवा कार्य में लगे हुए हैं।

Rajesh Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned