पीपाड़ में नाराज लोगों ने रोक दी एक्सप्रेस

ग्रामीण स्टेशन पर ही सांकेतिक धरना देते हुए चुनाव बहिष्कार और उग्र आंदोलन की चेतावनी दे डाली। कालका एक्सप्रेस को समर्थक ने चेन रुकवा दिया।

By: Manish Panwar

Published: 07 May 2018, 12:10 AM IST

पीपाड़ सिटी. वर्षों से पीपाड़ रोड जंक्शन पर एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव को लेकर आम लोगों की मांग को नजरअंदाज करने से खफा ग्रामीणों का सब्र रविवार को टूट गया। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण महिलाओं तथा पुरुषों ने यहां स्टेशन पर ही सांकेतिक धरना देते हुए जनप्रतिनिधियों को सबक सिखाने के लिए चुनाव बहिष्कार और उग्र आंदोलन की चेतावनी दे डाली। धरने के दौरान पीपाड़ होकर गुजर रही कालका एक्सप्रेस को भी किसी धरना समर्थक ने चेन खींचकर रुकवा दिया।
धरनार्थियों ने दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधियों पर इस मामले में ढंग से पैरवी नहीं करने का आरोप लगाते हुए गहरा रोष प्रकट किया। एक दिवसीय सांकेतिक प्रदर्शन में पीपाड़-भोपालगढ़-मण्डोर पंचायत समितियों से जुड़े कई गांवों से सैकड़ों की तादाद में आई महिलाओं एवं पुरुषों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। ग्रामीणों का गुस्सा हरिद्वार जाने वाली कालका एक्सप्रेस के ठहराव को लेकर था, क्योंकि परिजनों के अस्थि विसर्जन के लिए उन्हें अन्य कोई साधन नहीं मिलता।

62 किलोमीटर दूर जाकर ट्रेन पकडऩे को मजबूर

पीपाड़ रोड जंक्शन पर जम्मूतवी एक्सप्रेस के अलावा कोई एक्सप्रेस ट्रेन नहीं रुकती। पीपाड़ शहर के साथ ही इस पर आश्रित कई पंचायत समिति क्षेत्र के लोगों को मजबूरन 62 किलोमीटर दूर जोधपुर जाकर गंतव्य के लिए ट्रेन पकडऩी पड़ती है। जिससे धन और समय की बर्बादी होती है। जोधपुर से चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेनों का पहला स्टोपेज ही जोधपुर जिले की सीमा समाप्त होने के बाद दूसरे जिले नागौर का गोटन कस्बा है। निप्र
धरना समर्थकों ने रुकवा दी टे्रन धरनास्थल पर ग्रामीणों ने हाथों में तख्तियां लेकर तथा काली पट्टी बांध विरोध जताते हुए नारेबाजी की। 11.25 पर जैसे ही कालका एक्सप्रेस पीपाड़ रोड जंक्शन से गुजरने लगी डिब्बे में सवार किसी यात्री ने चेन खींचकर ट्रेन रुकवा दी। ट्रेन रुकते ही आंदोलनकारी भीड़ की नारेबाजी और तेज हो गई। अचानक बनी इस स्थिति से घबराए रेलवे पुलिस के जवानों ने मोर्चा संभाला। हालांकि भीड़ ने किसी प्रकार की अव्यवस्था तथा व्यवधान पैदा नहीं किया। चेन खींचने वाले का पता नहीं चल पाया, लेकिन जानकारों के अनुसार किसी धरना समर्थक ने ही जोधपुर से चढ़कर ट्रेन रुकवाई। इस दौरान ट्रेन पांच मिनट स्टेशन पर खड़ी रही। जनप्रतिनिधियों ने दिलाया भरोसामामले की जानकारी मिलने पर पीपाड़ पालिकाध्यक्ष महेंद्रसिंह क'छवाहा ने ग्रामीणों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए उनकी मांग को जायज बताया। साथ ही भरोसा दिलाया कि स्थानीय सांसद तथा जनप्रतिनिधियों के माध्यम से बात केंद्र सरकार तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे। धनास्थल पर सरपंच कृपाल राठौड़, नारायणराम मेघवाल बाड़ा, मुकेश मेघवाल भुण्डाना, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य आमदीन सिंधी शेखनगर, एडवोकेट रामकिशोर गहलोत, भंवरलाल चौधरी, देवीलाल सोनी, मीर मोहम्मद, प्यारेलाल भाटी, लिखमाराम क'छवाहा, विशनसिंह राठौड़, झूमरलाल, किशनलाल व्यास, इस्माइल मोहम्मद सहित कई गांवों से आई महिलाएं भी मौजूद रही। निप्र.

Manish Panwar Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned