कोरोना के कारण अनाथ बच्चों को संरक्षण देगी बाल कल्याण समिति

 

अनाथ बच्चों के संरक्षक को सालाना भत्ता, रिश्तेदारों को किया जाएगा प्रेरित

By: Nandkishor Sharma

Published: 20 May 2021, 12:15 PM IST

जोधपुर. कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर में कई परिवारों के चिराग बुझ चुके हैं तो कई बच्चों के सिर से माता-पिता का साया छिन चुका है। कई परिवार अपनों को खोने के बाद पूरी तरह टूट चुके है। कोरोना के कारण जोधपुर के आगोलाई ग्राम पंचायत के ग्राम तलिया निवासी लीला देवी तंवर का निधन 11 मई को हुआ। पति ओमप्रकाश का निधन पहले ही हो चुका था। एक पुत्री वर्षा विवाहित है और 3 पुत्र गोविंद, मोंटू व पृथ्वीराज है। मृतक लीला देवी कशीदा कारी का कार्य कर बच्चों का पालन पोषण करती थी। सबसे छोटा बेटा पृथ्वीराज तो सरकारी स्कूल में कक्षा 3 में पढ़ता है। ऐसे अनाथ जरूरतमंद बच्चों को बाल कल्याण समिति संरक्षण देने की दिशा में पहल की है। बाल कल्याण समिति जोधपुर के अध्यक्ष डॉ धनपत गुजर ने बताया कि कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्चों को व्यक्तिगत देखरेख योजना के तहत उनके ही रिश्तेदारों को उनके प्रोत्साहन के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके अलावा गोराधाय ग्रुप फोस्टर केयर योजना के तहत किसी रजिस्टर्ड संस्था में अनाथ बच्चों को प्रवेशित करवाया जा कर उनकी शिक्षा,चिकित्सा और पालन पोषण की जिम्मेदारी तय की जाएगी। इसके लिए संस्था को प्रत्येक बच्चे के अनुसार सरकार प्रोत्साहन राशि देती है। पालनहार योजना के तहत भी ऐसे बच्चों के संरक्षक को सालाना भत्ता दिया जाता है ताकि देखभाल व संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों का भविष्य बेहतर बनाया जा सके।

Nandkishor Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned