HANDICRAFT--जीएसटी रिफण्ड: दस्तावेज अपलोड करने वाली साइट बीमार

- निर्यातक परेशान नोट

By: Amit Dave

Published: 30 Sep 2020, 11:26 PM IST

जोधपुर।

कोविड के कारण आर्थिक तंगी से जूंझ रही हैण्डीक्राफ्ट इंडस्ट्री के करोड़ों रुपए सरकारी विभागों में अटके हुए है। रिफण्ड के लिए निर्यातकों को विभागीय औपचारिकताओं को पूरी करने में भी परेशिानयों का सामना करना पड़ रहा है। हाल यह है रिफण्ड के लिए आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करने वाली विभाग की वेबसाइट बीमार है। वेबसाइट पूरी तरह से काम नहीं कर रही है। ऐसे में निर्यातक नए क्लेम भी ढंग से अपलोड नहीं कर पा रहे हैं।

---

ऑनलाइन ईजीएम फ ाइल करने में भी दिक्कतें

निर्यातकों की ओर से एक्सपोर्ट जनरल मेनीफेस्ट (ईजीएम) में तकनीकी समस्या के कारण आइजीएसटी रिलीज करने में दिक्कतें आ रही है। निर्यातकों द्वारा भरे गए ऑनलाइन इजीएम में कुछ तकनीकी मिसमेच गलती की वजह से भी एरर आ रहा था। इस वजह से निर्यातकों को रिफ ण्ड मिलने में देरी हो रही है। निर्यातकों की ओर से इस तकनीकी गलती के बारे में विभाग को सूचित किया जा चुका है।

----

तीन माह से नहीं मिला है रिफण्ड

सीधे गुजरात के मुन्द्रा पोर्ट से निर्यात करने वाले हैण्डीक्राफ्ट निर्यातकों को जून माह से आइजीएसटी में रिफ ण्ड नहीं मिला है। जोधपुर के 100 से अधिक निर्यातकों के करीब 150 करोड़ के आईजीएसटी रिफ ण्ड मुद्रा पोर्ट से अटके पडे है ।

--

निर्यातकों पर दोहरी मार है। तकनीकी एरर की वजह से नए क्लेम सही तरीके से अपलोड नहीं हो पा रहे है। वहीं आइजीएसटी रिफण्ड भी अटके हुए है। निर्यातकों को अतिरिक्त कर्ज लेकर फं ड का इंतजाम करना पड़ रहा है।

डॉ भरत दिनेश, अध्यक्ष

जोधपुर हैण्डीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन

---

Amit Dave Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned