जेएनवीयू छात्रसंघ चुनाव : शुरू हुई मतगणना, इन दो प्रत्याशियों को मिला कारण बताओ नोटिस

Harshwardhan Bhati | Publish: Sep, 11 2018 11:57:38 AM (IST) | Updated: Sep, 11 2018 11:59:10 AM (IST) Jodhpur, Rajasthan, India

विवि में महज 46.22 फीसदी ही वोट पड़े जो पिछले साल की तुलना में तीन फीसदी कम है।

जोधपुर। जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव में मतदान के बाद सभी 41 मतदान बूथों से 245 मतपेटियों को एकत्रित करके एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज में बनाए गए स्ट्रॉंग रूम में कड़ी सुरक्षा के बीच रखा गया है। मतगणना मंगलवार सुबह 11 बजे शुरू हो चुकी है। शाम तक सभी प्रत्याशियों के परिणाम आने की उम्मीद जताई जा रही है। इस दौरान सायंकालीन अध्ययन संस्थान के संस्थान अध्यक्ष पद के प्रत्याशी देरावर सिंह और संस्थान के संस्थान महासचिव पद के प्रत्याशी कुलभान सिंह को विश्वविद्यालय के मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रोफेसर अवधेश शर्मा ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है। दोनों प्रत्याशियों के संबंध में निर्वाचन कार्यालय को सोमवार को शिकायत मिली थी कि उन्होंने रविवार देर रात कैंपस में अपने पोस्टर या बैनर चिपका दिए थे। मतदान से हैंड वर्क पहले पोस्टर चिपकाने को लेकर उनसे जवाब मांगा गया है। निर्वाचन अधिकारी ने उनसे तत्काल जवाब देने को कहा है।

मुख्य चुनाव अधिकारी प्रो. अवधेश शर्मा ने बताया कि मतपेटियों को एक स्ट्रांग रूम में रखा गया है। जिसमें 24 घण्टे चलने वाले दो कैमरे हैं। बिजली गुल हो जाने या यूपीएस बंद हो जाने के बावजूद कैमरे चलेंगे। रूम को तीन लॉक से सील किया गया है। उसके बाहर पुलिस का पहरा है। एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज में एपेक्स के चारों पदों के अलावा शोध प्रतिनिधि पद के लिए मतगणना हो रही है। एपेक्स पदों की 160 मतपेटियां हैं और एक मतपेटी शोध प्रतिनिधि की है। एपेक्स पदों को छोडकऱ शेष सभी पदों के लिए मतगणना संबंधित संकायों में ही हो रही है। कमला नेहरु कॉलेज और सांयकालीन अध्ययन संस्थान के पदों की मतगणना संबंधित संकायों में ही हो रही है। कक्षा प्रतिनिधियों के लिए कला, वाणिज्य, इंजीनियरिंग, विधि और विज्ञान संकाय में मतगणना हो रही है। सुबह 9 बजे से एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज से 84 मतपेटियों को संबंधित संकायों के लिए रवाना किया गया था। विवि में महज 46.22 फीसदी ही वोट पड़े जो पिछले साल की तुलना में तीन फीसदी कम है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned