कभी काजू-बादाम का वितरण करने वाला रसद विभाग आज केवल गेहूं करवा रहा उपलब्ध, बीते सालों में यह हुआ हाल

कभी काजू-बादाम का वितरण करने वाला रसद विभाग आज केवल गेहूं करवा रहा उपलब्ध, बीते सालों में यह हुआ हाल

Harshwardhan Singh Bhati | Publish: Aug, 08 2019 12:54:36 PM (IST) Jodhpur, Jodhpur, Rajasthan, India

उज्ज्वला योजना के बाद प्रदेश में केरोसिन बंद करने की तैयारी, 33 में से 11 जिलों में बंद- 4 साल में केरोसिन का वितरण एक तिहाई पहुंचा- केवल अंत्योदय परिवारों को मिलती है एक किलो चीनी

 

गजेंद्रसिंह दहिया/जोधपुर. कभी काजू-बादाम और पिस्ता का वितरण करने वाला रसद विभाग अब उपभोक्ताओं को केवल गेहूं उपलब्ध करा रहा है। रसोई गैस एजेंसी और पेट्रोल पंप के ट्रेड लाइसेंस जारी करने का काम भी दो साल पहले रसद विभाग से छिन गया। केरोसिन वितरण बंद होने के कगार पर है। चीनी सिर्फ अंत्योदय परिवारों को पूरे साल की एक साथ दे दी जाती है।

ऐसे में प्रदेश के 35 जिला रसद कार्यालयों में कार्यरत आरएएस स्तर के जिला रसद अधिकारी गेहूं का ही हिसाब-किताब देख रहे हैं। राज्य सरकार ने अगस्त में प्रदेश के 33 में से जोधपर सहित 11 जिलों में केरोसीन आवंटन शून्य कर दिया है। इस महीने 1716 (12 के गुणांक में) किलोलीटर केरोसिन आवंटित किया गया है। जबकि चार साल पहले अगस्त 2015 में यह 4 लाख, 10 हजार किलोलीटर था। उज्ज्वला योजना के अंतर्गत गांवों में घरेलू गैस पहुंचने से धीरे-धीरे शेष जिलों में भी केरोसिन वितरण बंद कर दिया जाएगा। पेट्रोल पंप और रसोई गैस एजेंसी से सम्बंधित काम भी दो साल से पेट्रोलियम कम्पनियां नियंत्रित कर रही हैं।

1960 में यह मिलता था राशन की दुकान पर
1 बादाम, काजू, पिस्ता राशन की दुकान पर 7 से 8 रुपए प्रति किलो मिलते थे।
2 मुश्ती शक्कर 85 पैसे प्रति किलो और गुड़ इससे भी सस्ता था।
3 इरेसमिक कम्पनी की शेविंग ब्लेड एक राशन कार्ड पर एक मिलती थी।
4 साइकल के टायर-ट्यूब भी राशन डीलर्स बेचते थे। टायर 5 रुपए का आता था।
5 राशन डीलर्स वनस्पति तेल और पाम ऑयल भी बेचते थे।
6 राशन की दुकानों पर खादी के कपड़े व लठ्ठे भी मिलते थे। धोती का एक जोड़ा 18 रुपए का था।
7 साठ के दशक में गेहूं की आपूर्ति कम होने पर राशन डीलर्स ने लाल ज्वार भी बेची।
8 1 रुपए में गेहूं के दो डिब्बे आते थे, जिसमें करीब 4 किलो गेहूं होता था। मूंग, मोठ, मसूर, उड़द व अरहर की दाल भी मिलती थी।
9 साबुत चना भी मिलता था।
10 कु छ समय के लिए दूध पाउडर भी बेचा गया। चाय पत्ती भी मिलती थी।
11 स्कूल व कॉलेज के छात्र छात्राओं के लिए कॉपी व रजिस्टर भी बिक्री के लिए उपलब्ध थे।
(जैसा 72 वर्षीय राशन डीलर लाला केशवनाथ जोशी ने बताया। लाला 1971 से राशन डीलर हैं।)

1956 में खुली थी जोधपुर में पहली राशन दुकान

जोधपुर में राशन की पहली दुकान 1956 में मैसर्स धनराज जानकीलाल के नाम से खोली गई। उसके बाद स्वतंत्रता सेनानी पाउलाल राठी को दुकान मिली। इसके बाद अमृतलाल व नारायण सिंधी को राशन की दुकान आवंटित की गई। लाला केशवनाथ कहते हैं कि वे स्वयं ही पीले रंग के राशन कार्ड बनाकर लोगों को देते थे। गेहूं के लिए टोकन दिया जाता था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned