अनुप्रिया के इस नेता ने अखिलेश को दिया जवाब, ट्यूट के बजाए मौके पर जाकर किया करें मदद


बनारस हादसे के बाद अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर लगाए थे आरोप, भष्टाचार के चलते ढहा पुल

By: Vinod Nigam

Published: 16 May 2018, 04:59 PM IST

कानपुर। बनारस में मंगलवार को एक पुल ढह जाने से कई लोगों की मौत हो गई थी, जिसके चलते प्रदेश से लेकर देश भर में सियासत गर्म है। इस हादसे के बाद अखिलेश ने पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट के जरिए विकास पर वार करते हुए कहा ये है देश की सर्वोच्च प्राथमिकता वाले संसदीय क्षेत्र में विकास की सच्चाई। ये हाल तब है जबकि प्रदेशीय मंत्री यहां लगातार तथाकथित निरीक्षण करने आते रहे हैं’। ये हादसा एक ऐक्सिडेंट है या भ्रष्टाचार का परिणाम, आज प्रदेश की सरकार को ये जवाब वाराणसी की जनता को देना ही होगा। का, जवाब भाजपा के सहयोगी दल अपना दल की नेता केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की राष्ट्रीय कार्यकारणी के सदस्य अजय प्रताप सिंह ने दिया। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव के पास अब कोई मुद्दा नहीं बचा तो वो हादसों में सियायत काते हैं। पूर्व सीएम बताएं कि हादसे के 24 घंटे बीतने वाले हैं, वह बनारस क्यों नही गए। अजय प्रताप ने पूर्व सीएम पर हमला करते हुए कहा कि वो जनता की सेवा के बजाए एसी में बैठकर मोबाइल के जरिए ट्यूट कर योगी सरकार को बदनाम करने की कोशिश करते रहते हैं। जनता इनके इस कार्यनामें से भलीभांति परचित है।
देरशाम हुआ था हादसा
कैंट रेलवे स्टेशन के पास निर्माणाधीन फ्लाईओवर का एक हिस्सा मंगलवार शाम करीब 5ः 20 बजे गिर पड़ा। उप्र के राहत आयुक्त संजय कुमार ने वाराणसी में निर्माणाधीन पुल ढहने से अभी तक 18 लोगों की मौत की पुष्टि की है। एक महिला समेत 12 के शव निकाले जा चुके हैं। पुल की शटरिंग के लिए बने वजनी पिलर के नीचे रोडवेज बस, बोलेरो समेत कई दोपहिया वाहन दब गये। राहत कार्य में सेना के जवान व एनडीआरएफ की टीम लगी है। प्रशासन ने पुल गिरने के कुछ घंटे बाद ही कार्रवाई करके चार अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है। सस्पेंड होने वाले अधिकारियों में चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, प्रोजेक्ट मैनेजर केआर सूदन, सहायक अभियंता राजेश सिंह और अवर अभियंता लालचंद शामिल हैं।
ट्वीट कर भाजपा पर साधा निशाना
बनारस हादसे के बाद जहां सरकार और प्रशासन युद्ध स्तर पर घायलों को मलबे से बाहर निकाल रहे थे तो वहीं यूपी की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इसे सरकार की चूक बताते हुए ट्यूट कर सीएम योगी पर जमकर हमला बोला। अखिलेश ने कहा ’ये है देश की सर्वोच्च प्राथमिकता वाले संसदीय क्षेत्र में विकास की सच्चाई। ये हाल तब है जबकि प्रदेशीय मंत्री यहां लगातार तथाकथित निरीक्षण करने आते रहे हैं’। ये हादसा एक ऐक्सिडेंट है या भ्रष्टाचार का परिणाम, आज प्रदेश की सरकार को ये जवाब वाराणसी की जनता को देना ही होगा.साथ अखिलेश ने अपने सभी कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा है कि वाराणसी में पुल के हादसे में लोगों को बचाने के लिए वे बचाव दल के साथ पूरा सहयोग करें। अखिलेश ने इस मामले में सरकार को भी आढ़े हाथों लिया है। कहा ’सरकार से ये अपेक्षा करता हूँ कि वो केवल मुआवज़ा देकर अपनी ज़िम्मेदारी से नहीं भागेगी बल्कि पूरी ईमानदारी से जांच करवायेगी। पूर्व सीएम के ट्वीट के बाद भाजपा और उसके सहयोगी दलों के नेताओं ने उप ट्यूट के साथ ही मुंहजुबानी हमला बोला है। अनुप्रिया पटेल के दल के नेता अजय प्रताप सिंह ने कहा कि जब प्राकृतिक आपदर आई थी, तब भी पूर्व सीएम ने सारी सीमाएं लांघी थी। वह आरोप लगाकर एसी में बैठना जानते थे, जबकि भाजपा व उसके सहयोगी दल के कार्यकर्ता पीड़ितों की मदद के लिए मौके पर जाते हैं।
वापस आने के बाद जाएंगी बनारस
अजय प्रताप सिंह ने बताया कि अपना दल की नेता व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल पीएम के आदेश पर सात दिनों के लिए विदेश गई हैं। वह वहां के राष्ट्राध्यक्षों से मिलकर भारत में उद्योग लगाने के लिए आमंत्रण दे रही हैं। अजय प्रताप सिंह ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अनप्रिया पटेल डेमिनका के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट स्केरिट से औपचारिक मुलाकात की। केंद्रीय मंत्री ने वहां के प्रधानमंत्री को भारत का आने का न्योता दिया। अजय ने बताया कि पीएम के कहने पर भारत सरकार के आधा दर्जन मंत्री विदेश दौरे पर गए हुए हैं और वो वहां के कंपनियों के सीईओ से मिलकर भारत में कारोबार करने का न्योता दे रहे हैं। अजय के मुताबिक देररात केंद्रीय मंत्री का फोन आया था और बनारस हादसे के बारे में जानकारी ली थी। हमने उन्हें बताया था कि अपना दल एस के सैकड़ों कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधि बचाव-राहत कार्य में लगे हुए हैं। अपना दल की नेता विदेश से लौटने के बाद बनारस जाएंगी और पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात करेंगी।
पीड़ितों के साथ खड़ा है पूरा देश
अजय प्रताप सिंह ने बताया कि बनारस हादसे के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद , उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पुल हादसे पर शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की और घायलों को हरसंभव मदद मुहैया कराने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे में मृत लोगों के परिजनों को पांच लाख जबकि घायलों को दो-दो लाख रुपये की मदद देने का निर्देश दिया है। वहीं निर्माणाधीन फ्लाईओवर के गिरने के कारणों की जांच के लिए मुख्यमंत्री ने तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है। मुख्यमंत्री ने समिति से 48 घंटे में जांच रिपोर्ट मांगी है। इतना सब कुछ होने के बावजूद पूर्व सीएम अखिलेश यादव को कमी दिखती है। कहा कि हम उन्हें सलाह देते हैं कि हादसों में सियासत के बजाए बचाव-राहत कार्य में हाथ लगाया करें, जिससे उन्हें कुछ फाएदा हुआ। घर में ट्यूट करने से जनता का भला नहीं होता।

 

Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned