बीएससी के शातिर छात्र का कारनामा जानकर रह जाएंगे हैरान, मिलिट्री इंटेलिजेंस एवं एसटीएफ ने पकड़ा

इस अवस्था में इतना बड़ा कारनामा करने वाले बीएससी के छात्र को लेकर गैंग के दूसरे सदस्यों का भी पता लगाया जा रहा है।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 28 Dec 2020, 09:38 PM IST

कानपुर-बीएससी के एक शातिर को मिलिट्री इंटेलीजेंस और एसटीएफ की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार कर बड़ी सफलता हासिल की है। यह शातिर लोगों को नौकरी लगवाने का झांसा देता था। उसने अभी तक करीब एक दर्जन लोगों को अपना शिकार बनाया है। जो ढाई लाख में फर्जी नियुक्ति पत्र देता था। तलाशी लेने पर उसके पास से तीन फर्जी नियुक्ति पत्र, सेना की मुहरें, एक मोबाइल फोन, एक एटीएम कार्ड बरामद किया गया है। इस अवस्था में इतना बड़ा कारनामा करने वाले बीएससी के छात्र को लेकर गैंग के दूसरे सदस्यों का भी पता लगाया जा रहा है। फिलहाल इस उम्र में उसका कारनामा दंग कर देने वाला है। फिलहाल शातिर के मोबाइल की कॉल डिटेल निकलवाई जा रही है और बैंक खाते भी खंगाले जाएंगे। अब टीम उसके गैंग के अन्य सदस्यों की तलाश में जुट गई है।

एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि कैंट थाने में सीतापुर के दीपक कुमार राठौर ने मुकदमा दर्ज कराया था कि लखनऊ के आजाद नगर इलाके के अभय कुमार सोनी ने उसे सेना में नौकरी दिलवाने की बात कही। जिसके बाद झांसा देकर बैंक खाते में रकम जमा कराई, लेकिन नौकरी नहीं मिली। उसने मिलिट्री इंटेलीजेंस को भी सूचना दी थी। इसके बाद मिलिट्री इंटेलीजेंस के साथ ही एसटीएफ भी आरोपित की तलाश में जुटी थी। जल्द ही पुलिस फर्जी नियुक्ति बनाने वाले को भी तलाश करेगी।

ताया गया कि शुक्रवार देर रात आरोपित ने एक युवक को नियुक्ति पत्र लेने के लिए कानपुर में कैंट थानाक्षेत्र स्थित 10 नंबर कैंटीन के पास बुलाया था, जहां उसे घेराबंदी करके पकड़ा गया। इसके बाद रविवार को टीम ने आरोपित को छावनी पुलिस के हवाले किया। थाना प्रभारी आदेश चंद्र ने बताया कि आरोपित अभय बीएससी तृतीय वर्ष का छात्र है। वह फेसबुक के जरिए युवकों को अपना शिकार बनाता था। सेना की कैंटीन का फर्जी नियुक्ति पत्र देकर बेरोजगारों से अपने बैंक खाते में पैसे जमा कराता था। उसे जेल भेजा गया है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned