डेढ़ साल से फर्जी नंबर की लग्जरी कार पूरे देश में दौड़ती रही, लोन के चलते हुआ खुलासा

डेढ़ साल से फर्जी नंबर की लग्जरी कार पूरे देश में दौड़ती रही, लोन के चलते हुआ खुलासा

Alok Pandey | Updated: 02 Aug 2019, 12:36:55 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

शोरूम कर्मचारी ने साढ़े तीन लाख लेकर गाड़ी मालिक को थमा दिए फर्जी कागजात
रजिस्ट्रेशन के लिए परेशान हो रहा गाड़ी मालिक, आरोपी कर्मचारी पर केस दर्ज

कानपुर। यूपी-७८ एफबी ९९२२ नंबर प्लेट वाली शहर की एक लग्जरी कार पूरे देश में दौड़ती रही। डेढ़ साल बाद जब लोन के लिए गाड़ी की आरसी मांगी गई तब जाकर मामले का खुलासा हुआ। यह बात जानकर गाड़ी मालिक के भी होश उड़े हुए हैं। अब वह दोबारा रजिस्ट्रेशन के लिए भागदौड़ कर रहा है। यह पूरा खेल शोरूम के एक कर्मचारी का है, जिसने साढ़े तीन लाख रुपए लेकर भी गाड़ी मालिक को फर्जी कागजात थमा दिए। मामले में कर्मचारी के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। पुलिस इसकी जांच कर रही है।

२०१७ में हुई थी खरीद
शहर के शांतिवन अपार्टमेंट आजादनगर निवासी नीरज प्रसाद ने दिसंबर २०१७ में पीपीएन मार्केट के सामने स्थित स्मार्ट हूप्स लग्जरी कार के शोरूम से ४५ लाख की लग्जरी कार खरीदी थी। इस कार की पूरी डील शोरूम के एक कर्मचारी अंकित शर्मा ने की थी। अंकित के जरिए ही डील पूरी हुई और उसने नीरज से दो लाख रुपए कैश भी ले लिए।

अंकित को दी थी रजिस्ट्रेशन की जिम्मेदारी
हालांकि कोई भी शोरूम गाड़ी के रजिस्ट्रेशन की जिम्मेदारी नहीं लेता है, लेकिन नीरज ने शोरूम के कर्मचारी अंकित को व्यक्तिगत रूप से गाड़ी के रजिस्ट्रेशन की जिम्मेदारी दी थी। नीरज गाड़ी के लिए आखिरी में २२ नंबर की मांग भी रखी। जिसके लिए अंकित ने नीरज से तीन लाख ३९ हजार रुपए भी लिए थे।

गाड़ी पर था १५ लाख का लोन
अंकित ने नीरज को यूपी ७८ एफबी ९९२२ नंबर के साथ गाड़ी के कागजात दे दिए। इसी नंबर के साथ गाड़ी पूरे देश में दौड़ती रही पर कभी भी इसका फर्जी नंबर पकड़ में नहीं आया। गाड़ी पर १५ लाख का लोन भी था और जब लोन के लिए २०१९ में शोरूम की ओर से आरसी मांगी गई, तब जाकर नंबर के फर्जी होने का पता चला।

कर्मचारी पर मुकदमा दर्ज
नीरज प्रसाद ने कर्नलगंज थाने में अंकित के खिलाफ धोखाधड़ी और फर्जी आरसी दिए जाने का मामला दर्ज कराया है। कर्नलगंज इंस्पेक्टर ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही अंकित को गिरफ्तार किया जाएगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned