कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर वाणिज्य कर विभाग ने की छापेमारी, विभाग को मिली थी ये सूचना

छापेमारी के दौरान एक बोगी का माल खोलकर रेलवे कर्मियों ने पार्सलघर में पहुंचा दिया और वाणिज्य कर अधिकारियों को देने से इन्कार कर दिया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 23 Feb 2021, 02:22 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर. कालका मेल (Kalka Mail)में हावड़ा (Howrah) से अपवंचना का माल आने की सूचना मिलने पर वाणिज्य कर विभाग (Commerce Vibhag) के अधिकारियों ने सेंट्रल स्टेशन पर छापेमारी (Central Station Kanpur Raid) की। छापेमारी के दौरान एक बोगी का माल खोलकर रेलवे कर्मियों (Railway Station) ने पार्सलघर में पहुंचा दिया और वाणिज्य कर अधिकारियों को देने से इन्कार कर दिया। वहीं एक अन्य पार्सल कोच की सील नहीं खोली। जिसके चलते वाणिज्य कर विभाग ने भी उस पर अपनी सील लगा दी। साथ ही उस पार्सल कोच को आगे कालका जाने से रोक दिया। रेलवे ने उसे अलग कर वहीं रोक लिया। बताया गया कि इसे मंगलवार को रेलवे और वाणिज्य कर विभाग के अधिकारी मिलकर खोलेंगे।

दरअसल वाणिज्य कर के अधिकारियों को लखनऊ मुख्यालय से सूचना मिली थी। जिसमें बताया गया था कि हावड़ा से आ रही कालका मेल में रेडीमेड (Readymade) का बहुत सारा माल है, जिस पर टैक्स नहीं चुकाया गया है। सक्रिय हुई वाणिज्य कर विभाग की मोबाइल टीमों ने स्टेशन पर अचानक छापा मारा। इस बीच रेलवे कर्मचारियों ने एक पार्सल कोच खोला, जिसमें मौजूद 24 नग पार्सलघर पहुंचा दिए। इस पर वाणिज्य कर अधिकारियों ने रेलवे के अधिकारियों को लिखित रूप से दिया कि इन नग को उन्हें सौंप दिया जाए। वाणिज्य कर के संयुक्त आयुक्त डीके वर्मा ने बताया कि रेलवे ने इससे इन्कार कर दिया।

वहीं रेलवे का कहना है कि जब इस माल को लेने वाले आएंगे तो उनकी अनुमति के बिना इसे नहीं दिया जाएगा। इसके साथ ही जो पार्सल कोच अंत में लगा था, उसकी भी सील नहीं खोली गई है। पूरी ट्रेन को जाने दिया गया, लेकिन वह पार्सल कोच अलग कर रोक लिया गया। फिलहाल वाणिज्य कर अधिकारियों की दो टीमें स्टेशन पर बोगी के दोनों तरफ लगा दी गई हैं, जिससे कि उससे माल न निकाला जा सके। अब इस पार्सल कोच को दोनों विभागों के अफसरों की मौजूदगी में खोलने की बात कही है।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned