सबसे लम्बी दिल की धमनी कानपुर के मरीज में मिली

सबसे लम्बी दिल की धमनी कानपुर के मरीज में मिली

Alok Pandey | Updated: 23 Aug 2019, 12:26:55 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कार्डियोलॉजी के डॉक्टर देखकर रह गए हैरान
डायबिटीज और हाइपरटेंशन से परेशान था मरीज

कानपुर। शहर के एक मरीज की दिल की प्रमुख धमनी दुनिया में सबसे लम्बी निकली है। जिसे देखकर कार्डियोलॉजी के डॉक्टर भी हैरान रह गए। डॉक्टरों के मुताबिक दिल को खून पहुंचाने वाली प्रमुख धमिनयों में लेफ्ट मेन कोरोनरी आरटरी इतनी बड़ी निकली है, वह दिल के चारों ओर बेतरतीब तरीके से गुथी हुई थी। हार्ट रोगों की विश्व की प्रमुख पत्रिका ब्रिटिश मेडिकल जरनल ने 28 जून को डॉक्टरों के दावे को स्वीकार किया है।

डायबिटीज और हाइपरटेंशन से पीडि़त था मरीज
लक्ष्मीपत सिंघानियां इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी के विशेषज्ञ डॉ. संतोष कुमार सिन्हा, डॉ. पुनीत कुमार, डॉ. महमुदुल रजी के मुताबिक जून के प्रथम सप्ताह में 64 वर्षीय मरीज को 15 वर्षों से डायिबिटीज और हाइपरटेंशन की बीमारी थी। उसे सीने में दर्द, सांस फूलने चलने फिरने में दिक्कत की शिकायत के बाद संस्थान में भर्ती किया गया था। शुरुआती जांच पड़ताल में सब कुछ ठीक निकला। इकोकार्डियोग्राम में नसों में सूजन की आशंका हुई तो उसे एंजियोग्राफी कराने की सलाह दी गई। एंजियोग्रोफी में पाया गया उसकी लेफ्ट मेन धमनी काफी लम्बी थी।

आठ मिमी की जगह ८० मिमी लंबाई
डॉक्टरों ने मुताबिक जो धमनी पांच से आठ मिलीमीटर होनी चाहिए वह लगभग 80 मिलीमीटर की थी। धमनी की चौड़ाई भी सामान्य की अपेक्षा काफी अधिक थी। अभी तक विश्व में लेफ्ट मेन धमनी अधिकतम 50 मिलीमीटर तक ही रिपोर्ट है। मरीज की एंजियोग्राफी में कोई क्लाटिंग की बात सामने नहीं आई। इसका इलाज किया जा रहा है। दरअसल ऐसे मरीजों में खून की सप्लाई ठीक से नहीं हो पाती है। डॉ.संतोष सिन्हा के मुताबिक खून का फ्लों नहीं बनता है जिससे मरीज को सीने में दर्द और सांस फूलने की शिकायत होती है।

हार्टअटैक की संभावना ज्यादा
कार्डियोलॉजी में कानपुर देहात के एक मरीज में सबसे लंबी मिली है धमनी ब्रिटिश मेडिकल जनरल ने वैज्ञानिकों के दावे को माना। सांस फूलने व चलने फिरने में दिक्कत की शिकायत के बाद भर्ती कराया गया। कार्डियोलॉजी के डॉक्टर भी इस प्रमुख धमनी को देखकर हैरत में पड़ गए। ऐसे मरीजों को हार्ट अटैक में मृत्यु की संभावना 20 गुना तक बढ़ जाती है। मरीज को अस्पताल से छुट्टी देकर घर भेज दिया गया है और उसे फालोअप में रखा गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned