लापता हुए सैनिकों को खोजने में वर्दी करेगी मदद, बताएगी जवान की लोकेशन

लापता हुए सैनिकों को खोजने में वर्दी करेगी मदद, बताएगी जवान की लोकेशन

Alok Pandey | Updated: 20 Aug 2019, 02:18:57 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

उत्तरप्रदेश वस्त्र प्रौद्योगिकी संस्थान में सेना के लिए तैयार किया जाएगा स्मार्ट क्लॉथ
वर्दी में सिक्योरिटी फीचर से लैस सेंसर लगे होंगे, पसीने की बदबू दूर करेगी वर्दी

कानपुर। दुर्गम इलाकों में फंसे जवानों को तलाश करने में अब उनकी यूनीफार्म मदद करेगी। अगर जवान खुद अपनी जानकारी देने में सक्षम नहीं है या फिर घायल हो चुका है तो जवानों की वर्दी उनकी लोकेशन बता देगी। जिससे मुसीबत में फंसे जवानों को तलाश करना आसान हो जाएगा। इसके लिए उत्तरप्रदेश वस्त्र प्रौद्योगिकी संस्थान भारतीय सेना के लिए ऐसा स्मार्ट क्लॉथ तैयार करने जा रहा है, जिसमें लगे सेंसर व चिप से सैनिकों की लोकेशन आसानी से ट्रेस हो जाएगी और घायल या मुसीबत में फंसे जवानों की मदद दी जा सकेगी। इसकी रूपरेखा तैयार कर ली गई है। संस्थान के वरिष्ठ प्रोफेसर जल्द ही सैन्य अधिकरियों के साथ बैठक करेंगे।

शोध के लिए यूपीटीटीआई से मिला ६० लाख अनुदान
डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (यूपीटीटीआई) ने इनोवेशन सेंटर में सेंसरयुक्त कपड़ों पर अनुसंधान के लिए उत्तरप्रदेश वस्त्र प्रौद्योगिकी संस्थान को 60 लाख रुपये अनुदान दिया है। इसके लिए वरिष्ठ प्रोफेसरों के निर्देशन में पीएचडी व एमटेक छात्रों की टीम बनाई जा रही है, जो सेना के जवानों के लिए उपयोगी इस स्मार्ट क्लाथ को तैयार कर सकें।

सिक्योरिटी फीचर से लैस होगी यूनीफार्म
जवानों की वर्दी में ऐसे सेंसर इस्तेमाल किए जाएंगे जो धुलाई में डिटर्जेंट से खराब न हों। प्रोजेक्ट प्रमुख व उत्तरप्रदेश वस्त्र प्रौद्योगिकी संस्थान के निदेशक प्रोफेसर मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि सेंसर व चिप युक्त वर्दी पहने सैनिकों की लोकेशन यूनिट के अधिकारी कभी भी पता कर सकेंगे। इसके लिए फ्लेक्सिबल सेंसर का इस्तेमाल किया जाएगा, जो जैकेट व ट्राउजर में इनबिल्ट रहेंगे।

पहनने में नहीं होगी कोई दिक्कत
कपड़ों पर इस तरह से सेंसर व उपकरण लगाए जाएंगे जिससे इन स्मार्ट कपड़ों को पहनने में दिक्कत न हो। इनोवेशन सेंटर में ऐसे सेंसर का इस्तेमाल किया जाएगा, जो भारतीय जलवायु के अनुरूप काम कर सकें। ये सेंसर सेना के विशेष सिक्योरिटी फीचर से लैस होंगे जिसके कोड को सिर्फ सेना ही डिकोड कर पाएगी। सेंसर बैट्री व वायरलेस से जुड़े रहेंगे जो इन कपड़ों को पहने जवान की लोकेशन बताएंगे। इसके लिए फ्लेक्सिबल बैटरी की जाएगी।

पसीने की बदबू से बचाएंगी वर्दी
प्रयोगशाला में ऐसे कपड़े विकसित करने पर काम चल रहा है जो पसीने की दुर्गंध का अहसास नहीं होने देंगे। इसमें तुलसी, नीम व एलोवेरा इस्तेमाल के साथ शोध किया जा रहा हैं। शोध के दूसरे भाग में नैनो सिल्वर प्रॉपर्टी का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके तहत सिल्वर क्लोराइड व सिल्वर जिंक के जरिए रासायनिक क्रियाएं कराकर कपड़े को ज्यादा प्रभावी बनाया जाएगा ताकि नैनो सिल्वर प्रॉपर्टी से तैयार कपड़ा लंबे समय तक अपने गुण को संजोए रखे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned