निर्माण कराना हुआ महंगा, नक्शा पास कराने से लेकर कई तरह के चार्ज केडीए ने बढ़ाए

जुर्माने में भी की गई बढ़ोत्तरी, बकाया पड़ा शुल्क भी बढ़ाकर देना होगा
नई दरों का प्रस्ताव मंजूरी के लिए वीसी के पास भेजा गया

कानपुर। शहर में आवासीय या व्यवसायिक निर्माण कराना अब महंगा हो गया है। अब नक्शा पास कराने के लेकर अन्य निर्माण संबंधी कार्यों के लिए जेब ढीली करनी पड़ेगी। केडीए ने तमाम तरह के शुल्क में बढ़ोत्तरी की तैयारी कर ली है और बढ़े हुए शुल्क का प्रस्ताव मंजूरी के लिए वीसी के पास भेज दिया गया है। केडीए ने शमन शुल्क में भी १५ प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की है।

बकाया शुल्क भी बढ़ी दरों पर देना होगा
केडीए के अधिकारियों ने बताया कि जिन लोगों ने निर्माण संबंधी विभिन्न कार्यों के लिए आवेदन कर रखा है और अभी तक उसका शुल्क जमा नहीं किया है तो अब उन्हें बढ़ा हुआ शुल्क जमा करना होगा। पुराना शुल्क मंजूर नहीं होगा।

इस तरह बढ़ा चार्ज
आवासीय या व्यवसायिक निर्माण कराने के लिए केडीए मानचित्र शुल्क सहित कई तरह के शुल्क लेता है। प्रतिवर्ष कास्ट इंडेक्स के आधार पर इसमें बढ़ोत्तरी भी की जाती है। पहले ३०० वर्गमीटर क्षेत्रफल से कम आवासीय प्लाट के लिए ८.८० रुपए प्रति वर्ग मानचित्र शुल्क की जगह अब ९.१० रुपए प्रति वर्गमीटर देना होगा।

जुर्माने में भी हुई बढ़ोत्तरी
केडीए ने जुर्माने की राशि में भी बढ़ोत्तरी की है। अगर नक्शा पास कराने के बाद किसी ने स्वीकृत सीमा तक अधिक अवैध निर्माण करा लिया है तो अतिरिक्त निर्माण को शमन शुल्क जमा कर उसे नियमित कराया जा सकता है। केडीए अब यह राशि भी १५ प्रतिशत बढ़ाकर वसूलेगा।

इस तरह बढ़ा शमन शुल्क
नई दरों के मुताबिक सौ वर्गमीटर तक के भूखंड पर २० रुपए प्रति वर्गमीटर, व्यावसायिक के लिए ४० रुपए प्रतिवर्गमीटर, १०१ से ३०० वर्ग मीटर के प्लाट के लिए ३० रुपए, ३०१ से ५०० वर्ग मीटर तक ४० रुपए और ५०१ से दो हजार वर्ग मीटर तक ५० रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से शमन शुल्क वसूला जाएगा।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned