एससी-एसटी के खिलाफ वकीलों ने भरी हुंकार, 2019 में सत्ता से बेदखल हो जाएगी मोदी सरकार

19 सितंबर को कचहरी में नहीं करेंगे काम-काज, शिक्षक पार्क में विशाल धरना-प्रदर्शन का किया ऐलान

By: Vinod Nigam

Published: 13 Sep 2018, 12:19 PM IST

कानपुर। कोर्ट के आदेश के बाद जिस तरह से मोदी सरकार ने एक वर्ग को खुश करने के लिए एससी-एसटी एक्ट कानून में बदलाव किया है, इसके खिलाफ सवर्ण, ओबीसी के साथ अब कई संगठन भी सड़क पर उतर आए हैं। कानपुर के वकीलों ने इस कानून के विरोध में अपने दस्वर मुखर करते हुए 19 सितम्बर को शिक्षकपार्क में विशाल धरने का आयोजन का ऐलान किया है। धरने में कानपुर कोर्ट के अधिवक्ताओ के साथ साथ छात्र नेता, व्यापार मंडल और धार्मिक संगठनों के लोग शामिल होंगे। बार एसोसियशन के पूर्व महामंत्री दिनेश शुक्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सबका-साथ, सबके विकास की बात करते हैं, लेकिन सिर्फ एक जाति के वोट के चलते दूसरे समाज के लोगों के उत्पीड़न के लिए संसद से सर्वाच्य न्यायालय का निर्णय बदल दिया। पर जतन 201़9 में उन्हें सत्ता से बेदखल कर देगी।

19 को -धरना प्रदर्शन का ऐलान
एससी-एसटी कानून अब मोदी सरकार के लिए मुसीबत बनता जा रहा है। जहां पहले सवर्ण समाज के लोग इस कानून के खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं वहीं अब अन्य संगठन भी इसके खिलाफ हल्लाबोल दिया है। कानपुर के वकील इस कानून के खिलाफ 19 सितंबर को विशाल धरना-प्रदर्शन का ऐलान किया है। साथ ही देश के अन्य वकीलों से अपील की है कि वो भी इस दिन कार्य नहीं करेंगे और एससी-एसटी बिल के खिलाफ आवाज बुदंल कर सरकार तक अपनी बात पहुंचाएंगे। बार एसोसियशन के पूर्व महामंत्री दिनेश शुक्ला ने कानपुर प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता के दौरान बताया कि एससी-एसटी के विरोध में आंदोलन चलाया जा रहा है। 1989 से अब तक एससी -एसटी कानून का दुरूपयोग हो रहा था। सर्वोच्च न्यायालय ने संज्ञान में लेकर विचार करने के बाद कहा की मुकदमा लिखते ही तत्काल गिरफ़्तारी नहींं होनी चाहिए। सरकार ने उस कानून को किनारे करते हुए अध्यादेश लाकर माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को उलट कर रख दिया जिससे सामान्य जन जीवन अस्त व्यस्त है।

वोट बैंक के चलते बदला निर्णय
बार एसोसियशन के पूर्व महामंत्री दिनेश शुक्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर वर्ग की रक्षा और विकास की बात करते हैं पर उन्होंने एससी-एसटी एक्ट कानून को बदल कर बता दिया कि वो भी अन्य राजनेताओं की तरह जातिगत राजिनीति करते हैं। उन्हें भी एक वर्ग के वोट खिसकने की चिंता थी और इसी के कारण आनन-फानन मे ंसंसद में बिल पास करा दिया गया। जबकि ऐसे कई बिल आज भी संसद में अटके हैं, जिन्हें पास कराने के लिए सत्ता और विपक्ष के कानों में जूं तक नहीं रेंगकी। कहा, सवर्ण के साथ ऐसा हर व्यक्ति जो कहीं ना कहीं एससी-एसटी कानून से पीड़ित रहा है वो सभी आहत और परेशान है। बार एसोसियशन के पूर्व महामंत्री दिनेश शुक्ला ने बताया कि कानपुर कोर्ट में एससी-एसटी एक्ट से पीड़ित लोगों की संख्या हजारों के पार पहुंच गई है। अब तो लोक भैंस चोरी होने पर एससी-एसटी के तहत मुकदमा दर्ज करा सवर्ण को जेल भेज रहे हैं।

1989 में बनाया गया था यह कानून
अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लोगों पर होने वाले अत्याचार और उनके साथ होनेवाले भेदभाव को रोकने के मकसद से अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम, 1989 बनाया गया था। जम्मू कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में इस एक्ट को लागू किया गया। इसके तहत इन लोगों को समाज में एक समान दर्जा दिलाने के लिए कई प्रावधान किए गए और इनकी हरसंभव मदद के लिए जरूरी उपाय किए गए। इन पर होनेवाले अपराधों की सुनवाई के लिए विशेष व्यवस्था की गई ताकि ये अपनी बात खुलकर रख सके। हाल ही में एससी-एसटी एक्ट को लेकर उबाल उस वक्त सामने आया, जब सुप्रीम कोर्ट ने इस कानून के प्रावधान में बदलाव कर इसमें कथित तौर पर थोड़ा कमजोर बनाना चाहा।

कोर्ट ने यह बदलाव किए थे
सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट के बदलाव करते हुए कहा था कि मामलों में तुरंत गिरफ्तारी नहीं की जाएगी। कोर्ट ने कहा था कि शिकायत मिलने पर तुरंत मुकदमा भी दर्ज नहीं किया जाएगा. शीर्ष न्यायालय ने कहा था कि शिकायत मिलने के बाद डीएसपी स्तर के पुलिस अफसर द्वारा शुरुआती जांच की जाएगी और जांच किसी भी सूरत में 7 दिन से ज्यादा समय तक नहीं होगी। डीएसपी शुरुआती जांच कर नतीजा निकालेंगे कि शिकायत के मुताबिक क्या कोई मामला बनता है या फिर किसी तरीके से झूठे आरोप लगाकर फंसाया जा रहा है? सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट के बड़े पैमाने पर गलत इस्तेमाल की बात को मानते हुए कहा था कि इस मामले में सरकारी कर्मचारी अग्रिम जमानत के लिए आवेदन कर सकते हैं।

सरकार ने बदला कोर्ट का आदेश
एससी-एसटी संशोधन विधेयक 2018 के जरिए मूल कानून में धारा (18ए) जोड़ी जाएगी।. इसके जरिए पुराने कानून को बहाल कर दिया जाएगा। इस तरीके से सुप्रीम कोर्ट द्वारा किए गए प्रावधान रद्द हो जाएंगे। मामले में केस दर्ज होते ही गिरफ्तारी का प्रावधान है। इसके अलावा आरोपी को अग्रिम जमानत भी नहीं मिल सकेगी। आरोपी को हाईकोर्ट से ही नियमित जमानत मिल सकेगी। मामले में जांच इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अफसर करेंगे। जातिसूचक शब्दों के इस्तेमाल संबंधी शिकायत पर तुरंत मामला दर्ज होगा.। एससी/एसटी मामलों की सुनवाई सिर्फ स्पेशल कोर्ट में होगी। सरकारी कर्मचारी के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दायर करने से पहले जांच एजेंसी को अथॉरिटी से इजाजत नहीं लेनी होगी।

Narendra Modi pm modi
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned