हार्ट, किडनी व लिवर फेल्योर बचाएंगे आईआईटी और मेडिकल कॉलेज

प्राइमरी स्टेज पर बीमारियों का लगाएंगे पता
अंगों के फेल होने की वजह का पता लगाएंगे

कानपुर। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज ने आईआईटी के साथ मिलकर ऐसे प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया है, जिससे हार्ट, किडनी और लिवर को फेल होने से रोका जा सकेगा। दोनों संस्थानों के विशेषज्ञ इस पर रिसर्च कर रहे हैं। इसके लिए आईआईटी में एक सेंटर स्थापित किया गया है।

प्राइमरी स्टेज में पता करेंगे बीमारी
डॉक्टरों ने बताया कि शरीर के प्रमुख तीन अंग हार्ट, किडनी और लिवर हैं। इनमें से किसी एक में भी खराबी जीवन कठिन बना देती है और इनमें एक भी अगर फेल होता है तो उसके ट्रांसप्लांट की जरूरत पड़ती है। इसलिए यह जरूरी है कि इन अंगों से जुड़ी बीमारी को गंभीर स्थिति में पहुंचने से पहले ही सही किया जा सके। जिससे स्थिति फेल्योर होने तक न पहुंचे।

मौजूदा जांचें अंदाजा ही देती
विशेषज्ञों ने बताया कि इन अंगों से जुड़ी मौजूदा जांचें सटीक जानकारी नहीं देती हैं। अगर प्रोटीन की जांच बार-बार पॉजिटिव आ रही है तो कोशिकाओं की जांच करके बताया जा सकता है कि गुर्दा फेल होने की दिशा में है। जबकि खून और यूरीन की जो भी जांचें हैं उनमें भी सिर्फ अंदाजा ही लगाया जा सकता है कि बीमारी है या नहीं। सटीक जानकारी के लिए नई खोज जरूरी है।

बायोप्सी से मिलेगी जानकारी
आईआईटी में बायोलॉजिकल साइंस एंड बायो इंजीनियरिंग विभाग में कोशिकाओं की जांच से विशेषज्ञ को बीमारी तक पहुंचने में काफी मदद मिलेगी। कोशिकाओं में हो रहे जेनेटिक बदलाव से डायगनोसिस तैयार की जाएगी। अभी तक छह मरीजों की बायोप्सी कराई जा चुकी है जो गुर्दे की बीमारी से पीडि़त थे।

कार्डियोलॉजी और एम्स भी बने सहयोगी
आईआईटी में चल रही रिसर्च में कार्डियोलॉजी और एम्स के अलावा कई अस्पतालों के विशेषज्ञ भी सहयोग के लिए जुड़े हैं। इस सेंटर पर सभी अस्पतालों से जुड़े अनुभवों के आधार पर रिसर्च को आगे बढ़ाया जा रहा है।

 

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned