कोर्ट के एक्शन के बाद हकरत में दिखी पुलिस, फरार चल रहे सपा नेता के घर की हुई कुर्की

Abhishek Gupta

Publish: Oct, 13 2017 08:47:05 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
कोर्ट के एक्शन के बाद हकरत में दिखी पुलिस, फरार चल रहे सपा नेता के घर की हुई कुर्की

कोर्ट में सरेंडर नहीं करने पर न्यायालय ने शुक्रवार को इसके घर की कुर्की का आदेश दे दिया।

कानपुर. समाजवादी की सरकार के दौरान सपा नेता की शहर में तूती बोलती थी। सरकारी से लेकर गरीबों की जमीनों को बंदूक की नोक पर इसके गुर्गे कब्जा किया करते थे। जाजमऊ से लेकर उन्नाव और नेपाल-ढाका में कारोबार फैला था। लेकिन यूपी से अखिलेश सरकार के जाने के बाद हिस्ट्रीशीटर से नेता बने महताब आलम की उल्टी गिनती शुरू हो गई। चकेरी थानाक्षेत्र में एक इमारत ढह जाने के चलते कई लोगों की मौत हो गई थी। केडीए ने बगैर अनुमति के बिल्डिंग निर्माण के तहत इस पर मुकदमा दर्ज करा दिया। पुलिस ने बचने के लिए इसने पहले हाईकोर्ट से स्टे ले लिया। स्टे की मियाद खत्म होने के बाद पुलिस आरोपी को अरेस्ट करने के लिए प्रयास कर रही थी, लेकिन हर बार वो चकमा देकर निकल जाता। कोर्ट में सरेंडर नहीं करने पर न्यायालय ने शुक्रवार को इसके घर की कुर्की का आदेश दे दिया। दो थानों के साथ पुलिस ने सारा समान डीसीएम में रखकर मकान को सीज कर दिया।

11 लोगों के मर्डर का लगा है आरोप-
कानपुर के कद्दावर नेता महताब की अखिलेश सरकार के दौरान शहर में काफी रसूख थे। इसी के बल पर इसने कई जमीनों पर कब्जे करवाकर अपार्टमेंटों का निर्माण करवा जमकर पैसा कमाया। एक फरवरी 2017 को जाजमऊ स्थित छबीलेपुरवा में सपा नेता महताब आलम की अवैध निर्माणाधीन इमारत गिरने से 10 मजूदरों की मौत हो गयी थी। साथ ही 18 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसके बाद से महताब आलम फरार हो गया था। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए जब धड़पकड़ के दबिश तेज़ की तो इसने हाई कोर्ट से गिरफ्तारी होने होने का स्टे ले लिया। अब महताब की गिरफ्तारी का स्टे ख़त्म हो चुका था। बावजूद उसने कोर्ट में सरेंडर नहीं किया। जिसके चलते न्यायालय ने आरोपी महताब आलम के घर की कुर्की के आदेश दे दिया।

कई माह से चल रहा है फरार-
हाईकोर्ट से लिए गए स्टे की अवधि दो माह पहले खत्म हो चुकी थी। पुलिस मेहताब आलम को अरेस्ट करने का प्रयास कर रही थी, लेकिन वो हाथ नहीं लग रहा था। इसी के बाद कोर्ट ने मेहताब आलम के घर की कुर्की का आदेश दे दिया। चकेरी और कैंट थाने की पुलिस आज उसके पुराने घर पर गई। घर के बाहर ताला पड़ा था, जिसे पुलिस ने तोड़कर घर में प्रवेश किया। घर के अंदर रखे सारे समान को एक डीसीएम में भर कर थाने ले आई। दो घंटे तक पुलिस की ये कार्रवाई चलती रही। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि जिस घर की पुलिस ने कुर्की की है, उसमें मेहताब आलम कभी नहीं रहा। यहां उसके मजदूर रहा करते थे। इशरत अली बताते हैं कि महताब आलम के परिजन यहां रहा करते थे, लेकिन दस साल पहले वो भी नए मकान में शिफ्ट हो गए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned