बच्चों के स्वास्थ्य का नियमित कराएं परीक्षण

करौली. जिले के राजकीय सम्प्रेषण, किशोर गृह, गैर राजकीय बालिका गृहों में आवासित बच्चों का निर्धारित समय पर स्वास्थ्य परीक्षण कराने के जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

By: Dinesh sharma

Published: 14 Jul 2021, 07:54 PM IST

करौली. जिले के राजकीय सम्प्रेषण, किशोर गृह, गैर राजकीय बालिका गृहों में आवासित बच्चों का निर्धारित समय पर स्वास्थ्य परीक्षण कराने के जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। साथ ही अधिकारियों को समय-समय पर बच्चों से स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी लेने के निर्देश भी दिए हैं। जिला कलक्टर सिहाग बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिला बाल संरक्षक इकाई की बैठक में लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षक एवं जेजे एक्ट, बाल कल्याण समिति के प्रकरणों की समीक्षा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बाल सरंक्षक समिति के सदस्य जब भी बालिका गृहों का निरीक्षण करें उसकी रिपोर्ट में कमियों के बारे में बताएं, जिससे की जो सुविधाऐं बच्चों को मिलनी चाहिए ,उनमें सुधार हो सके। उन्होंने कहा कि बच्चों को जिस स्तर तक सुविधाएं होनी चाहिए वह नहीं है तो अनुदान भी उसी अनुपात में काटने की कार्रवाई की जाएगी। कलक्टर ने बालकों के लिए सेफ्टी होम के संबंध में जगह देखने के निर्देश भी जिला बाल अधिकारिता विभाग अधिकारी को दिए, जिससे की बालकों को बेहतर सुविधा मिले। बैठक में पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने बाल संरक्षण समिति के सदस्यों द्वारा दिए गए सुझावों पर कहा कि बालकल्याण अधिकारियों की सात दिवस में हर थाने की सूची उपलब्ध कराई जाएगी। सीडब्लूसी मैम्बर, व जेजे बोर्ड की सूचना सभी थानों, वृताधिकारी कार्यालय, महिला थानों आदि स्थानों पर आगामी सात दिवस में चस्पा कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि बालकल्याण अधिकारियों को सात दिवसीय प्रशिक्षण भी दिया जाए, ताकि उनको अपने दायित्वों के प्रति सजगता रहे। बैठक मे बाल अधिकारिता एवं जिला बाल संरक्षण इकाई की सहायक निदेशक रिंकी किराड़ ने कोविड-19 कोरोना महामारी से बचाव एवं रोकथाम के कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

चाइल्ड लाइन में दर्ज प्रकरणों की समीक्षा
जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने जिला चाइल्ड एडवाइजरी कमेटी की बैठक में जिले मे ंसंचालित चाइल्ड लाइन 1098 की एक मार्च 2020 से 30 जून 2020 तक दर्ज 785 प्रकरणों की विस्तार से समीक्षा की। निदेशक सत्येन्द्र चतुर्वेदी ने कोरोना महामारी के दौरान किए गए कार्यों के बारे में बताया। बैठक में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शिवचरण मीणा, बालसंरक्षण समिति के सदस्य, कार्यक्रम प्रभारी मनोज शर्मा, चाइल्ड लाइन समन्वयक विजय माली, नगरपरिषद आयुक्त नरसी लाल मीणा एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Dinesh sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned