राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के खिलाडियों का जलवा

Commonwealth Games 2018 : आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा खिलाडियों का जलवा जारी है।

By: शंकर शर्मा

Published: 15 Apr 2018, 10:18 PM IST

चंडीगढ़। आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा खिलाडियों का जलवा जारी है। शनिवार को हरियाणा के खिलाडियों ने पदकों की बारिश कर दी। राज्य के खिलाडिय़ों ने आज सात पदक जीते। चार खिलाडिय़ों ने स्वर्ण पदक जीते तो एक ने सिल्वर मेडल पर कब्जा किया। दो ने कांस्य पदक पर कब्जा किया। यमुनानगर के संजीव राजपूत ने शूटिंग में गोल्ड मेडल जीता तो विेनेश फौगाट ने महिला कुश्ती में स्वर्ण पदक पर कब्जा किया।

पानीपत के नीरज चोपड़ा ने जैवलिन थ्रो और रोहतक के सुमित मलिक ने कुश्ती में गोल्ड मेडल पर कब्जा किया। कुश्ती ओलंपिक पदक विजेता महिला पहलवान साक्षी मलिक ने कांस्य पदक जीता। साक्षी से स्वर्ण पदक की उम्मीद थी। अमित पंघाल ने बॉक्सिंग मे रजत और सोमबीर ने कुश्ती में कांस्य पदक जीेता। यमुनानगर के जगाधरी के कल्याणनगर निवासी निशानेबाज संजीव राजपूत ने 50 मीटर शूटिंग में स्वर्ण पदक जीत लिया है।

इससे पहले भी संजीव कई पदक अपने नाम कर चुके हैं। नौसेना में कार्यरत संजीव राजपूत दिल्ली में रहते हैं और अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र हैं। दो बार के ओलिंपियन राजपूत ने पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशस में राष्ट्रमंडल खेलों का नया रिकॉर्ड बनाया। 37 साल के राजपूत ने 454.5 का स्कोर कर स्वर्ण जीता। वह क्वॉलिफिकेशन चरण में 1180 अंकों के साथ शीर्ष पर थे।

भारत के चैन सिंह 419.1 का स्कोर कर पांचवें स्थान पर रहे। संजीव के स्वर्ण पदक जीेतने पर उनके जगाधरी स्थित घर पर जश्न का माहौल है। उनके परिजनों ने लोगों का मुंह मीठा कराया। संजीव के पिता कृष्णलाल राजपूत और माता ऊषा राजपूत बेटे की कामयाबी पर फूले नहीं समा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बेटे ने गर्व से सिर ऊंचा उठा दिया।

चरखी दादरी की विनेश फौगाट ने फ्री स्टाइल कुश्ती में 50 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर हरियाणा और फौगाट परिवार का नाम रोशन किया है। फाइनल मुकाबले में विनेश ने कनाडा की रेसलर जेसिका मेकडोनाल्ड को हराया। विनेश रिओ ओलंपिक में घायल हो जाने की वजह से पदक से वंचित रह गई थी। कॉमनवेल्थ गेम्स विनेश की चचेरी बहन बबीता फौगाट ने सिल्वर मेडल जीता है। हरियाणा के एक और खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने जैवलिंग थ्रो में स्वर्ण पदक जीता। नीरज चोपड़ा के पानीपत के खंडरा गांव के रहने वाले हैं।

नीरज की कामयाबी पर उनके गांव और पानीपत में जश्न का माहौल है। नीरज ने 86.47 मीटर की दूरी पर भाला फेंका। नीरज भाला फेंक में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी है। नीरज से पहले कोई भी भारतीय खिलाड़ी जैवलिन थ्रो में कॉमनवेल्थ गेम भारत के लिए गोल्ड नहीं जीत सका था। रोहतक के करोड गांव के पहलवान सुमित मलिक ने पुरुषों के 125 किलो भारवर्ग फ्री स्टाइल कुश्ती में गोल्ड मेडल जीता।

सुमित ने पाकिस्तान के तायब राजा को फ्री स्टाइल के 125 किलोग्राम इवेंट में हराया। सुमित ने यह मुकाबला 10-4 से जीता। सुमित की कामयाबी पर उनके गांव और रोहतक में जश्न का माहौल है। उधर,ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक ने देश को कांस्य पदक दिलाया। साक्षी से स्वर्ण पदक की उम्मीद थी।

साक्षी के पदक जीेतने पर रोहतक में खुशी है। शहर के खेलप्रेमियों का कहना था कि साक्षी से गोल्ड मेडल की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। फिर भी देश के लिए साक्षी के पदक जीतने पर उन्हें खुशी है। रेसलर साक्षी मलिक ने महिलाओं की 62 किलो भार वर्ग फ्री स्टाइल कुश्ती में कांस्य पदक अपने नाम किया।

साक्षी ने न्यूजीलैंड की टेलर फोर्ड को मात देकर कांस्य पदक अपने नाम किया। साक्षी ने यह मुकाबला अपने मजबूत डिफेंस के दम पर 6-5 से जीता। रोहतक के अमित पंघाल ने कुश्ती में सिल्वर मेडल जीता। रोहतक जिले के ही सोमबीर ने कुश्ती में कांस्य पदक जीता।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned