हरियाणा में गृहमंत्री को मिल रही है रोजाना पुलिस से जुड़ी छह सौ तक शिकायतें

दो साल पुरानी एफआईआर पर नहीं हुई है कार्रवाई : विज

चंडीगढ़. हरियाणा में सालों बाद स्वतंत्र रूप से गृहमंत्री का पद बनाया गया है। इससे पहले सालों तक गृहमंत्रालय मुख्यमंत्री संभालते रहे है। भाजपा-जजपा की गठबंधन सरकार में गृहमंत्री अनिल विज को जनसुनवाई में रोजाना पुलिस से सम्बन्धित छह सौ तक शिकायतें मिल रही है। विज का कहना है कि इन शिकायतों में ऐसे मामले भी सामने आए है जहां दो साल पहले एफआईआर दर्ज कराए जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं की गई।
विज ने यहां मीडिया से बातचीत में कहा कि जहां दो साल पुरानी एफआईआर पर कार्रवाई नहीं की गई वहां छानबीन से पता लगाया जा रहा है कि ऐसा क्यों और किसके कारण हुआ है। विज ने कहा कि वे आम लोगों की समस्याएं सुनने और उन्हें राहत देने के लिए लगातार सुनवाई कर रहे है। वे सचिवालय स्थित अपने कार्यालय में सप्ताह में मंगलवार और बुधवार को सुनवाई करते हैं और अपने निवास के शहर अम्बाला में शनिवार और रविवार को सुनवाई करते है। इस सुनवाई के दौरान कोई भी अपनी समस्या उनके सामने रख सकता है।
उन्होंने कहा कि पुलिस बल में हजारों पद खाली है। लेकिन इन्हें क्रमवार ही भरा जा सकेगा। इसका कारण यह है कि हरियाणा में एक बार या बैच में पांच हजार पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि पुलिस की गुप्तचर शाखा को भी मजबूत बनाने पर विचार किया जा रहा है क्योंकि यह सरकार की आंख और कान दोंनों है।
हरियाणा की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Chandra Prakash sain Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned