किसानों का गेहूं खरीदी मामले में सामने आई प्रशासन की बड़ी बेपरवाही, जानिए क्या है पूरा मामला

किसानों का गेहूं खरीदी मामले में सामने आई प्रशासन की बड़ी बेपरवाही, जानिए क्या है पूरा मामला
किसानों का गेहूं खरीदी मामले में सामने आई प्रशासन की बड़ी बेपरवाही, जानिए क्या है पूरा मामला

raghavendra chaturvedi | Publish: Jun, 01 2019 05:34:44 PM (IST) | Updated: Jun, 01 2019 05:34:45 PM (IST) Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के दौरान लापरवाही और किसानों की परेशानी से प्रशासन ने सबक नहीं ली। असर इस बार गेहूं खरीदी में दिखा। जिलेभर में 42 किसान एक हजार 60 क्विंटल गेहूं नहीं बेच पाए। अब प्रशासन ने एक बार फिर इन किसानों का गेहूं खरीदने भोपाल पत्राचार किया है। धान खरीदी के दौरान सैकड़ों किसान खरीदी केंद्र में धान रखकर बेच नहीं पाए थे। ऐसे किसानों के नाम टोकन जनरेट नहीं हुआ और कई महीने तक किसान कार्यालयों के चक्कर लगाते रहे। किसानों को ऐसी परेशानी का सामना गेहूं खरीदी में नहीं करना पड़े, इसके लिए कलेक्टर ने पहले ही निर्देश दिए। यहां कलेक्टर के निर्देश को भी खरीदी केंद्र प्रभारियों ने गंभीरता से नहीं लिया। जिले में तीन केंद्र ऐसे रहे जहां 42 किसान गेहूं नहीं बेच पाए। इसमें बड़वारा में 24, पडऱभटा में 17 और भजिया में 1 किसान शामिल हैं। तीनों केंद्रों में किसानों का एक हजार 60 क्विंटल गेहूं शेष है।

कटनी. समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी 25 मई को समाप्त होने के बाद जिलेभर में 22 हजार 774 किसानों ने 15 लाख 24 हजार 730 क्विंटल गेहूं बेचा है। इसमें किसानों को 2 सौ करोड़ रुपये का भुगतान हो गया है, 80 करोड़ रुपये का भुगतान शेष है।

गेहूं खरीदी के दौरान किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो इसके लिए प्रशासन ने पहले से ही विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए थे। खरीदी केंद्र प्रभारियों की गतिविधी पर नजर रखने के लिए अलग से नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई थी। इसके बाद भी तीन केंद्रों में किसानों का गेहूं खरीदने के लिए अब भोपाल तक पत्राचार करना पड़ रहा है। इसे सीधे तौर पर खरीदी केंद्र प्रभारियों की लापरवाही से जोड़कर देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें video: गांव तक सड़क नहीं, हार्टअटैक के बाद एंबुलेंस नहीं पहुंचने से चली गई जान

खाद्य विभाग के सहायक आपूर्ति अधिकारी रविकांत ठाकुर ने बताया कि तीन केंद्रों में जिन किसानों का गेहूं शेष रह गया है, उनके लिए भोपाल पत्र लिखा गया है। गेहूं खरीदी के बाद किसानों को शेष बकाया राशि का भुगतान निरंतर जारी है। गोदाम में स्टॉक पहुंचते ही प्रतिदिन पांच से सात करोड़ रुपये किसानों के खाते में ट्रांसफर हो रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned