व्यापारियों के फेर में बंद पड़ी थोक फल-सब्जी मंडी

कृषि उपज मंडी परिसर में उद्घाटन के बाद से नहीं शुरू हो पाई खरीदी, व्यापारियों के न पहुंचने से उपज लेकर नहीं आ रहे किसान

By: mukesh tiwari

Published: 04 Jan 2018, 06:49 PM IST

कटनी. शहर की कृषि उपज मंडी पहरुआ में थोक फल, सब्जी का व्यापार एक माह से अधिक का समय बीतने के बाद भी आज तक शुरू नहीं हो सका है। कारण यह है कि शहर में सब्जी व्यापारियों के दो गुट हैं और उनमें से एक गुट आने को तैयार नहीं है तो दूसरा गुट सभी को थोक मंडी शिफ्ट कराने की बात पर अड़ा हुआ है।
जिले के सब्जी किसानों को उनकी उपज का सही दाम मिले और शहर में कई स्थानों पर किसानों से कम दाम में सब्जी खरीदने पर अंकुश लगाने के लिए मंडी परिया में १० हजार वर्ग फिट में चार शेड में थोक मंडी शुरू कराई गई थी। २२ नवंबर को राज्यमंत्री संजय पाठक ने मंडी का शुभारंभ किया था और उसी दौरान उन्होंने पूरे शहर में फैले थोक के व्यापार को मंडी में लाने के निर्देश दिए थे। एक माह से अधिक का समय बीतने के बाद मंडी में व्यापारी ही नहीं पहुंचे हैं, जिसके चलते किसान भी उपज लेकर नहीं आ रहे हैं।
निजी मंडी, चौपाटी, बिलैया तलैया से थोक व्यापार
शहर में सब्जी व्यापारी जहां पुरैनी स्थित निजी मंडी से व्यापार कर रहे हैं तो चौपाटी, घंटाघर और बिलैया तलैया सब्जी मंडी में किसानों से थोक में सब्जी खरीदी जा रही है। प्रतिदिन शहर ५०० से ज्यादा किसान सब्जी व फल लेकर पहुंचते हैं और उन्हें सही दाम नहीं मिल पा रहे हैं तो दूसरी ओर मंडी को भी राजस्व की हानि हो रही है। जिले में ६० व्यापारी पंजीकृत हैं और उनमें से आधे थोक मंडी जाने को तैयार हैं लेकिन उनका कहना है कि सभी व्यापारियों को शिफ्ट कराने में ही वे काम शुरू करेंगे।
खाली पड़े शेड, तैनात अमला
कृषि उपज मंडी परिसर में चार बड़े-बड़े शेडों में थोक सब्जी व फल के लिए स्थान निर्धारित किया गया है। जिसके लिए मंडी ने कर्मचारियों की तैनाती कर रखी है तो सुरक्षा को लेकर गार्ड और प्रकाश सहित अन्य सुविधाएं हैं लेकिन व्यापारी व किसान के न आने से उनका कोई महत्व नही है। इस संबंध में सचिव कृषि उपज मंडी पीयूष शर्मा का कहना है कि शहर में थोक व्यापार कर रहे व्यापारियों को नगर निगम को शिफ्ट कराना है। कलेक्टर ने इसको लेकर निर्देश दिए हैं। व्यापारियों के आने पर ही किसानों को बुलाया जाना उचित होगा और सब्जी विक्रेताओं से चर्चा कर सांजस्य स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है।

खास बातें-
- २२ नवंबर को हुआ था थोक फल, सब्जी मंडी का उद्घाटन
- आज तक शुरू नहीं हो सका व्यापार
- खाली पड़े निर्धारित किए गए चार शेड
- व्यापारियों का एक गुट ही आने को तैयार
- निजी मंडी को नहीं कराया जा रहा निगम द्वारा खाली
- शहर की चौपाटी, घंटाघर, बिलैया तलैया व निजी मंडी से संचालित हो रहा व्यापार
- अपने अनुसार तय दामों मेंं खरीदी जा रही किसानों से सब्जी

mukesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned