#Khulasa चोरी के इरादे से घुसे थे शातिर अपराधी, जागने पर कर दी थी हत्या...

गौतम बंधवा में वृद्ध की हत्या, चोरी के मामले का पुलिस ने किया खुलासा, दो आरोपी गिरफ्तार, मशरुका जब्त

कटनी. कोतवाली थाना के गौतम बंधवा में वृद्ध एसएस राजपूत की हत्या और घर मेंं हुई चोरी के मामले को पुलिस ने २४ घंटे में खुलासा कर दिया है। वारदात को दो शातिर अपराधियों ने अंजाम दिया था, जो चोरी करने के इरादे से घर में घुसे थे और वृद्ध के जागने पर उसकी हत्या कर दी थी। उसके बाद चोरी कर भाग गए थे। मामले का खुलासा करते हुए एसपी ललित शाक्यवार ने बताया कि 3 सितंबर की रात को वृद्ध की हत्या उस समय कर दी थी, जब वह घर में अकेले थे। उनकी पत्नी उषा राजपूत मोहल्ले में पूजा करने गई थीं और जब लौटी तो उनको जानकारी लगी। जिसकी सूचना पुलिस को दी गई। कोतवाली थाना प्रभारी वीके विश्वकर्मा, चौकी प्रभारी अंकित मिश्रा मौके पर पहुंचे व स्थल का निरीक्षण किया। पुलिस ने फारेंसिक एक्सपर्ट, खोजी श्वान और फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की भी मदद ली। साथ ही साइबर सेल की टीम भी लगाई गई। एएसपी संदीप मिश्रा की निगरानी में पांच टीमें तैयार की गईं और उन्हें पतासाजी में लगाया गया। मामले में पुराने अपराधियों की लोकेशन खंगाली गई और उसमें संदेह के आधार पर पुलिस ने झर्राटिकुरिया निवासी अरविंद चौधरी 23 साल और संदीप बर्मन उर्फ लोटा उर्फ छोटू 23 साल को हिरासत में लिया। दोनों से पूछताछ की गई तो उन्होंने घटना करना स्वीकार किया।

राधा-कृष्ण की जोड़ी ने मचाई शोभायात्रा में धूम...देखिए वीडियो

चैनल गेट से रास्ता बनाकर घुसे थे आरोपी
आरोपियों ने बताया कि वे रात को सूने घर की तलाश में निकले थे। जिसमें राजपूत के घर में लाइट जल रही थी और ताला लगा हुआ था। दोनों ने राड के सहारे चैनल के निचले हिस्से में जगह बनाई और अंदर प्रवेश किया तो वृद्ध राजपूत जाग गए। जिसके चलते उन्होंने रॉड से ही उनके सिर पर वार किया। जिसमें उनकी मौत हो गई और उसके बाद वे नकदी, एलइडी लेकर दूसरे दरवाजे को खोलकर भाग निकले। आरोपियों के पास से एलइडी, नकद साढ़े तीन हजार रुपये व हत्या में प्रयुक्त हथियार जब्त किया गया है। आरोपी अरविंद व लोटा के खिलाफ शहर के विभिन्न थानों में कई मामले दर्ज हैं।

अपराधियों के निशाने पर शहर के बाहरी क्षेत्र कॉलोनियां, इस बात का उठा रहे फायदा...
एसआइटी में ये रहे शामिल
हत्या व चोरी मामले में खुलासा को लेकर एसपी ने एसआइटी बनाई थी। जिसमें कोतवाली थाना प्रभारी के साथ निरीक्षक शैलेष मिश्रा, निरीक्षक संजय दुबे,निरीक्षक विपिन सिंह, रेडियो निरीक्षक एमएल चौधरी, एसआइ धीरज राज, अंकित मिश्रा, अनीता कुड़ापे, बीडी द्विवेदी, एएसआइ विनोद सिंह, दुर्गेश तिवारी, प्रधान आरक्षक नितिन जायसवाल, आरक्षक मनोज कुड़ापे, जयंत कोरी, लालजी यादव, दीपक तिवारी, नितिन जायसवाल, अनिल सेंगर, वीरेन्द्र सिंह, शशिकांत करौसिया, मणी सिंह, महेश चौधरी, गौरीशंकर, रवीन्द्र दुबे, अनिल नायडू, सैनिक श्रवण मिश्रा शामिल थे। एसपी ने मामले में दस हजार रुपये का इनाम घोषित किया था। साथ ही टीम को पुरस्कृत करने की भी घोषणा की है।

mukesh tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned