नागपुर में कटनी के युवाओं ने गिरोह बनाकर की दो करोड़ की ठगी, जानिए कैसे

आरोपी की तलाश में नागपुर से आई पुलिस टीम ने दी दबिश, आरोपी हुआ फरार

 

By: dharmendra pandey

Updated: 10 Apr 2019, 11:56 AM IST

कटनी. जिले के युवाओं द्वारा नागपुर में गिरोह बनाकर दो करोड़ रुपये से अधिक की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। गिरोह में शामिल आरोपियों को पकडऩे के लिए नागपुर के हुडकेश्वर थाना की पुलिस ने जिले में दबिश दी। विजयराघवगढ़ के ग्राम कारीतलाई स्थित आरोपी बालादीन रजक के घर पर भी छापा मारा लेकिन आरोपी पुलिस की पकड़ में नहीं आया। जिसके चलते पुलिस को बेरंग लौटना पड़ा। गिरोह का सरगना भी जिले का ही बताया जा रहा है।
पैसा डबल करने के नाम पर करते थे ठगी:
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम कारीतलाई निवासी बालादीन रजक (35) ने अपने दो अन्य साथियों के साथ नागपुर के हुडकेश्वर थाना अंतर्गत दफ्तर खोला था। इसके बाद वहां के कुछ लोगों को लेकर गिरोह बनाया। दो से तीन साल में पैसा डबल कर देने की बात पर वहां के लोगों को झांसे में लेकर लोगों से पैसा जमा कराया गया। कई साल बीत जाने के बाद जब पैसा डबल नहीं हुआ तो लोगों को शंका हुई। जिस जगह पर दफ्तर खुला था वहां पर जाकर पता लगाया तो कार्यालय बंद मिला। इसके बाद हुडकेश्वर थाना पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई। मामले को संज्ञान में लेते हुए हुडकेश्वर थाना की पुलिस ने गिरोह में शामिल सदस्यों की खोजबीन की। एक आरोपी को नागपुर में ही पकड़ा है। उसी को साथ में लेकर पुलिस कटनी पहुंची।
माधवपुर कटनी निवासी पता बताता था आरोपी:
पुलिस ने बताया कि ग्राम कारीतलाई निवासी आरोपी बालादीन रजक नागपुर में खुद को माधवपुर कटनी का रहने वाला बताता था। इसी के आधार पर हुडकेश्वर पुलिस माधवनगर थाना कटनी आरोपी की तलाश में पहुंची थी। जहां से उसे पता लगा कि आरोपी कारीतलाई का रहने वाला है।

इनका कहना है:
ग्राम कारीतलाई निवासी आरोपी की तलाश में नागपुर जिले के हुडकेश्वर थाना की पुलिस ने दबिश दी है, लेकिन आरोपी नहीं मिला है। मामले की जांच के लिए नागपुर से आईं पुलिस ने सहयोग मांगा है। मामले की जांच की जा रही है। दो करोड़ रुपये से अधिक की जालसाजी किए जाने का मामला सामने आया है।
संजय दुबे, माधवनगर थाना प्रभारी

dharmendra pandey
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned