स्वाइन फ्लू के दो मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग को आया होश, जारी किया अलर्ट

Ashish Gupta

Publish: Sep, 16 2017 07:09:27 (IST)

Kawardha, Chhattisgarh, India
स्वाइन फ्लू के दो मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग को आया होश, जारी किया अलर्ट

स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्वाइन फ्लू के लिए अलर्ट जारी किया गया है, क्योंकि दो मरीज कवर्धा से चिंहांकित किए गए। मरीजों का इलाज रायपुर में चल रहा है।

कवर्धा. जिले में स्वास्थ्य विभाग की ओर से स्वाइन फ्लू के लिए अलर्ट जारी किया गया है, क्योंकि दो मरीज जिले से चिंहांकित किए गए। मरीजों का इलाज रायपुर में चल रहा है।

जिले में दो प्रकरण के बाद स्वास्थ्य विभाग को होश आया। इसके पूर्व तक स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए कोई तैयारी थी और न ही जिला अस्पताल में अलग से वार्ड बनाया गया था। राज्य भर में एलर्ट जारी किया, तब कहीं जाकर जिले के अधिकारियों ने इसकी तैयारी की। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अखिलेश त्रिपाठी ने इस सम्बंध में बताया कि राज्य भर में स्वास्थ्य विभाग को स्वाइन फ्लू के सम्बंध में अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही सतत् निगरानी के लिए भी कहा गया है।

उन्होंने बताया कि स्वाइन फ्लू के लिए सन्देहास्पद प्रकरणों का स्वाब जांच के लिए राज्य में केवल महारानी मेडिकल कालेज जगदलपुर में व्यवस्था है। तेज बुखार, ऊपरी स्वसन तंत्र में संक्रमण, खांसी, नाक बहना, गले में खराश, सिरदर्द, बदनदर्द, थकावट आदि इसके लक्षण हैं।

ऐसी स्थिति में भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचना चाहिए और अति आवश्यक हो तो मुंह और नाक को ढंककर निकलना चाहिए। साथ ही चेहरे और हाथों को बार-बार साबुन से धोते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि संक्रमित व्यक्ति से सम्पर्क से यह फैलता है। यही कारण है कि आवाजाही को भी इसके फैलने का कारण माना गया है।

क्या है स्वाइन फ्लू
सीएमएचओ ने बताया कि स्वाइन फ्लू एच1 एन1 इन्फ्लूएंजा वायरस से के कारण होता है और यह एक संक्रामक बीमारी है। यह संक्रमित हवा अथवा वस्तुओं के माध्यम से फैलता है। इसके संक्रमण का समय 1 से 7 दिन तक का होता है। जिस किसी को तेज बुखार के साथ स्वसन तंत्र में संक्रमण है, उन्हें तत्काल अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर जांच और उपचार कराना चाहिए।

अलग से वार्ड बनाया
पिपरिया के धरमपुरा और कवर्धा के नवीन बाजार में दो प्रकरण स्वाइन फ्लू के दर्ज किए गए हैं, जिनका उपचार रायपुर में चल रहा है। जिला अस्पताल में इस तरह के प्रकरणों के लिए अलग से वार्ड की व्यवस्था कर दी गई है। सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ. अरविंद शुक्ला ने इस सम्बंध में बताया कि स्वाइन फ्लू के मरीजों और सम्भावित मरीजों के लिए पेइंग वार्ड में अलग से व्यवस्था की गई है, क्योंकि इससे अन्य मरीजों में सक्रमण का खतरा होता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned