प्रसव पीड़ा में तड़पती गर्भवती के लिए लॉकडाउन में फरिश्ता बनकर पहुंचे स्वास्थ्यकर्मी, गांव का रास्ता खोल पहुंचाया अस्पताल

देश में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के बीच 108 संजीवनी एक्सप्रेस की टीम हर चुनौतियों का सामना कर लोगों को आपातकालीन सेवा का लाभ पहुंचा रही है। (Coroan lockdown in chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Published: 29 Mar 2020, 03:30 PM IST

कवर्धा. देश में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के बीच 108 संजीवनी एक्सप्रेस (Sanjeevani ambulance 108) की टीम हर चुनौतियों का सामना कर लोगों को आपातकालीन सेवा का लाभ पहुंचा रही है। एक ऐसा ही केस जिले के सुदूर वनांचल क्षेत्र छिंदीडीह में देखने को मिला। जहां गर्भवती महिला के लिए 108 संजीवनी एंबुलेंस वरदान बनकर पहुंचा। 19 वर्षीय गर्भवती महिला संतोषी बैगा की तबीयत खऱाब होने पर परिजनों ने 108 को इसकी सूचना दी।

प्रसव पीड़ा में तड़पती गर्भवती के लिए लॉकडाउन में फरिश्ता बनकर पहुंचे स्वास्थ्यकर्मी, गांव का रास्ता खोल पहुंचाया अस्पताल

कोरोना संक्रमण रोकने कर दिया था मार्ग अवरूद्ध
सूचना मिलते ही कुकदूर स्टाफ से पायलट पंचू राम श्याम और ईएमटी संदीप उपाध्याय ग्राम छिंदीडीह के लिए निकले, लेकिन लॉकडाउन के चलते ग्रामीणों ने गांव के पहुंच मार्ग को बड़े-बड़े पेड़ की सहायता से जाम कर दिया था। मार्ग अवरुद्ध होने पर भी संजीवनी की टीम ने हार नहीं मानी और कुकदूर पुलिस की मदद से सड़क पर रखे पेड़ और टहनी को बड़ी मशक्कत के बाद हटाकर महिला को रात में हॉस्पिटल पहुंचाया। गर्भवती महिला के परिजनों ने इस विकट परिस्थिति में संजीवनी बनकर पहुंचे 108 टीम का शुक्रिया अदा किया।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned