scriptWorkers of Kawardha Sugar Factory will agitate | कवर्धा सरकारी शक्कर कारखाना में फर्जी डिग्री से बाहरी लोगों को नौकरी, स्थानीय युवकों की अनदेखी, ठेका श्रमिक करेंगे उग्र आंदोलन | Patrika News

कवर्धा सरकारी शक्कर कारखाना में फर्जी डिग्री से बाहरी लोगों को नौकरी, स्थानीय युवकों की अनदेखी, ठेका श्रमिक करेंगे उग्र आंदोलन

लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना श्रमिक कल्याण संघ कबीरधाम ने अपने 10 सूत्री मांगों को लेकर कारखाना प्रबंधक और कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा है।

कवर्धा

Published: December 09, 2021 11:50:02 am

कवर्धा. लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना श्रमिक कल्याण संघ कबीरधाम ने अपने 10 सूत्री मांगों को लेकर कारखाना प्रबंधक और कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा है। वहीं तीन दिनों के भीतर मांगों पर कोई निर्णय नहीं लिया जाता तो 700 ठेका श्रमिक उग्र आंदोलन करेंगे। पंडरिया स्थित सहकारी शक्कर कारखाना में फर्जी डिग्री के सहारे बड़ी संख्या में नौकरी पर लगे हुए हैं। इसके कारण स्थानीय युवकों को प्राथमिकता नहीं मिल पा रही। इसकी शिकायत के बाद भी कारखाना प्रबंधन द्वारा कोई पहल नहीं किया जाता। श्रमिक कल्याण संघ के अध्यक्ष रमाशंकर विश्वकर्मा ने बताया कि यदि मामले में जांच किया जाए तो बड़ी संख्या में कर्मचारी निकलेंगे जो फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी कर अन्य बेरोजगारों का अधिकारी छीने हुए हैं।
कवर्धा सरकारी शक्कर कारखाना में फर्जी डिग्री से बाहरी लोगों को नौकरी, स्थानीय युवकों की अनदेखी, ठेका श्रमिक करेंगे उग्र आंदोलन
कवर्धा सरकारी शक्कर कारखाना में फर्जी डिग्री से बाहरी लोगों को नौकरी, स्थानीय युवकों की अनदेखी, ठेका श्रमिक करेंगे उग्र आंदोलन
स्थानीय श्रमिकों के साथ किया जाता है भेदभाव
संघ के उपाध्यक्ष अशांक बंजारे और सचिव अजय बंजारे ने बताया कि श्रमिकों के साथ चीफ केमिस्ट द्वारा भेदभाव किया जाता है। कंपनी के श्रमिकों से अच्छा और यहां के स्थानीय श्रमिकों को उनको व्यवहार अलग है। इसके चलते ही ठेका श्रमिकों ने चीफ केमिस्ट का कारखाना से बाहर करने की मांग रखी है। संघ द्वारा वर्षों से अपनी मांग कारखाना प्रबंधक के समक्ष रखी जा रही है लेकिन उनके द्वारा स्थानीय ठेका श्रमिकों की समस्याओं पर ध्यान ही नहीं दिया जाता है। कारखाना प्रबंधक केवल कारखाना के ठेका कंपनी के श्रमिक व कर्मचारियों पर ही ध्यान देते हैं, जबकि स्थानीय श्रमिकों से मुख्य रूप से काम लिया जाता है।
ठप पड़ जाएगा कामकाज
यदि ठेका श्रमिक इस समय काम बंद कर चले जाते हैं तो कारखाना का कामकाज पूरी तरह से ठप पड़ जाएगा। गन्ने की खरीदी हो पाएगी न ही पेराई। इसके अलावा विद्युत आपूर्ति भी ठप हो जाएगी। मतलब कारखाना को करोड़ों रुपए का नुकसान होगा। वहीं श्रमिक व प्रबंधक के बीच किसानों को भी भारी नुकसान होगा। किसानों का गन्ना सूख जाएगा, जिससे गन्ने का वजन कम होगा, मतलब कम राशि में बिक्री। मजबूर होकर गुड़ फैक्ट्री में औने-पौने दाम पर बिक्री करना होगा।
पेराई सत्र चल रहा
गन्ने की खरीदी व पेराई शुरू हो चुकी है। किसानों की संख्या में लगातार बढ़ती जा रही है। इसी बीच श्रमिक कल्याण संघ के ठेका श्रमिक आंदोलन के मूड में है। श्रमिकों की मांगों पर लंबे समय से कारखाना प्रबंधक द्वारा अनदेखी की जा रही है इसके चलते ही नाराजगी है। यह नाराजगी अब आंदोलन का रूप ले सकती है। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना श्रमिक कल्याण संघ द्वारा कलेक्टर और कारखाना प्रबंधक को 10 सूत्री मांग के लिए ज्ञापन सौंपा है। वहीं श्रमिकों ने प्रशासन के साथ प्रबंधक को तीन दिनों का समय भी दिया है यदि इस तीन दिन में उनके मांगों पर कोई निर्णय नहीं लिया जाता तो वह उग्र आंदोलन करेंगे।
यह है प्रमुख मांगें
सभी ठेका श्रमिकों का एक साथ पेमेंट बढ़ाया जाए। बाहरी कंपनियों के बजाए स्थानीय श्रमिकों को प्राथमिकता दिया जाए। ठेका श्रमिकों का साप्ताहिक रेस्ट बंद कर रविवार का डबल पेमेंट दिया जाए। फर्जी डिग्रीधारियों को कारखाना से बाहर कर नया भर्ती लिया गया है। कुछ ठेका श्रमिकों का पिछले वर्ष कारणवश पंचिंग करना छूट गया था उसको पुन: कार्य पर बुलाया जाए। श्रमिकों के साथ चीफ केमिस्ट को कारखाना से बाहर किया जाए। कुछ ठेका श्रमिकों का जिस दिन से पेमेंट बढ़ाया गया है उसी दिन से बाकी श्रमिकों का एरिया सहित पेमेंट दिया जाए। ठेका श्रमिकों को पोस्ट पद दिया जाए। ठेकादार नहीं बढ़ाया जाए व श्रमिकों का ईपीएफ पटाया जाए। ठेका श्रमिक संघ के सदस्यों ने प्रबंधक को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि आंदोलन काल के समय में कारखाना के विद्युत आपूर्ति विभाग, किसान भाइयों और शासकीय कार्य में बाधा व क्षति पहुंचता है तो उसका समस्त जिम्मेदारी कारखाना प्रबंधक व शासन-प्रशासन की होगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, रेलवे ने राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलायूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवाजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 7,498 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 10.59%डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हैं ये सब्जियां, रोजाना करें इनका सेवनक्या दुर्घटना होने पर Self-driving Car जाएगी जेल या ड्राइवर को किया जाएगा Blame? कौन होगा जिम्मेदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.