मुंबई में छिपी बैठी थी लुटेरी दुल्हन, पकड़ा तो रैकेट का हुआ खुलासा, कई राज्यों में फैला था नेटवर्क

छैगांवमाखन थाना के हरसवाड़ा में शादी के नाम पर 90 हजार की धोखाधड़ी कर फरार हुई थी दुल्हन, खंडवा समेत मंदसौर, उज्जैन, महाराष्ट्र, राजस्थान और दिल्ली में कई लोगों के साथ शादी के नाम पर धोखाधड़ी कर चुके हैं आरोपी

खंडवा. शादी के नाम पर धोखाधड़ी कर दो साल पहले फरार हुई लुटेरी दुल्हन और दलाल को छैगांवमाखन पुलिस ने महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया है। आरोपी लुटेरी दुल्हन वारदात के बाद से मुंबई में छिपी बैठी थी। पुलिस ने आरोपी की लोकेशन ट्रेस की। लोकेशन मिलते ही जलगांव से लुटेरी दुल्हन को धरदबोचा। वहीं मुंबई पहुंचकर साथी दलाल को भी गिरफ्तार कर लिया है। गुरुवार को मामले का खुलासा करते हुए शहर एडिशनल एसपी सीमा अलावा ने बताया 2 अप्रैल 2019 को सदाशिव पिता भलाजी गुर्जर निवासी हरसवाड़ा ने छैगांवमाखन में शिकायत की। शिकायत में बताया कि 28 मार्च 2019 को दुल्हन दीपाली इंदौर बस स्टैंड से सोने-चांदी के गहने लेकर भाग गई है। उसकी शादी 90 हजार रुपए लेकर दलाल राजेश और भागवत ने कराई थी। शिकायत पर कार्रवाई करते हुए आरोपी राजेश पिता आनंदराव गुर्जर निवासी दोंगालिया मूंदी को गिरफ्तार किया। पूछताछ में दुल्हन का कोई सुराग नहीं मिला। इसी बीच लॉकडाउन लगने से जांच प्रभावित हुई। लेकिन आरोपी दुल्हन और फरार दलाल की तलाश की जा रही थी। साइबर सेल ने लगातार लोकेशन ट्रेस कर गतिविधियों पर नजर रखे थी। इसी बीच आरोपी लुटेरी दुल्हन दीपाली पति गजानंद जाधव (30) निवासी कांदिवली भाब्रेकर नगर चारकोप गांव वेस्ट मुंबई की लोकेशन जलगांव के पास मिली। लोकेशन मिलते ही पुलिस टीम ने जलगांव पहुंचकर आरोपी दिपाली को गिरफ्तार कर लिया। वहीं मुंबई पहुंचकर दलाल आरोपी भागवत पिता गणपत कुंडलीक कुल्हे निवासी हिंगोली को गिरफ्तार किया। जिसका सही नाम भागवत पिता किशन हटकर (38) निवासी केली थाना मालेगांव महाराष्ट्र हाल मुकाम करावे नगर एनआरआइ रोड मुंबई है। मामले में आरोपियों को खंडवा लाया गया। न्यायालय में पेश कर दो दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है। रिमांड के दौरान अन्य प्रकरणों के संबंध में पूछताछ की जाएगी। गिरफ्तारी के बाद आरोपी लुटेरी दुल्हन पुलिस के सामने रोती रही।
तीन दिन पुलिस को छकाया फिर धराया दलाल
लुटेरी दुल्हन दिपाली की गिरफ्तारी के बाद पुलिस आरोपी भागवत की धरपकड़ करने के लिए मुंबई रवाना हुई। मुंबई में छैगांवमाखन पुलिस टीम तीन दिन तक आरोपी के पीछे घूमती रही। आरोपी लगातार जगह बदल रहा था। लेकिन पुलिस ने एनआरआइ पुलिस स्टेशन के पाम बीच रोड से आरोपी भागवत को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के मकान की तलाशी ली तो कई आधार कार्ड और लड़कियों के फोटो बरामद हुए। साथ ही मंदसौर में की गई शादी के दस्तावेज बरामद हुई हैं।
फर्जी नाम बताकर कई शहरों में की शादियां
छैगांमावखन थाना प्रभारी गणपत कनेल ने बताया आरोपी शादी के नाम पर लोगों को ठगने का काम लंबे समय से कर रहे थे। उनका अंतरराज्यीय गिरोह है। गिरफ्तार आरोपी भागवत ने हरसवाड़ा में शादी के दौरान अपना नाम भागवत पिता गणपत कुंडलीक कुल्हे निवासी हिंगोली बताया। तलाश करते हुए पुलिस हिंगोली पहुंची तो पता चला कि भागवत पिता गणपत की करीब 11 साल पहले मौत हो चुकी है। वहीं पूछताछ में आरोपियों ने दिल्ली, मंदसौर, उज्जैन, राजस्थान, महाराष्ट्र में कई लोगों के साथ शादी कर धोखाधड़ी करने की वारदातें कबूली है। मामले में अन्य जिलों की पुलिस को सूचना दी

जितेंद्र तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned