गणेशजी को कोई सिर पर, कोई गोद में, तो कोई हाथों में लेकर पहुंचे विसर्जन स्थल

गणपति बप्पा की विदाई
-पूजा-अर्चना कर अगले बरस जल्दी आने की कामना कर दी विदाई
-बड़ी प्रतिमाओं का समारोहपूर्वक गाजे-बाजे के साथ हुआ विसर्जन

By: मनीष अरोड़ा

Published: 19 Sep 2021, 10:56 PM IST

Barwani, Barwani, Madhya Pradesh, India

खंडवा.
अनंत चतुर्दशी पर 10 दिवसीय गणेशोत्सव का समापन धूमधाम से हुआ। रविवार को समारोहपूर्वक गणपति बप्पा को विदाई दी गई। कोई सिर पर उठाकर तो कोई गोद में लेकर तो कोई हाथों में उठाकर विसर्जन स्थल तक पहुंचा। बड़ों के साथ ही बच्चों और महिलाओं, युवतियों में भी गणेश विसर्जन को लेकर उल्लास देखने को मिला। विसर्जन स्थल पर बप्पा की पूजा-अर्चना कर अगले बरस जल्दी आने की कामना करते हुए श्रद्धालुओं ने विदाई दी।
रविवार को गणेश विसर्जन को लेकर सुबह से ही बाजार में चहल पहल शुरू हो गई थी। 11 बजे के बाद शहर के पदम कुंड, आबना नदी, गणगौर घाट सहित जसवाड़ी तक भी लोग विसर्जन के लिए पहुंचे। इस साल भी नगर निगम ने गणेश विसर्जन के लिए प्रतिमाओं को एकत्रित कर विसर्जन की व्यवस्था की थी। इसके लिए निगम ने 30 स्थानों पर ट्रैक्टर-ट्रॉलियों को सजाकर खड़ा किया था। लोगों ने निगम की व्यवस्था से ज्यादा अपने हाथों विसर्जन को ज्यादा महत्व दिया। सुबह से लेकर देर रात तक विसर्जन का दौर जारी रहा। गणगौर घाट पर प्रतिमाओं को नदी में डालने की बजाए गड्ढे में फेंकने को लेकर लोगों में आक्रोश भी देखने को मिला। हालांकि बाद में ये व्यवस्था सुधारते हुए नदी में प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया। वहीं, पदम कुंड में निगमकर्मियों ने लोगों से प्रतिमाएं लेकर विसर्जन किया।
ढोल-बाजे के साथ निकाली बड़ी प्रतिमाएं
शहर में बड़ी प्रतिमाओं का विसर्जन समारोहपूर्वक हुआ। ढोल-बाजों के साथ नाचते हुए युवाओं की टोली निकली। एक के बाद एक बड़ी प्रतिमाओं का कारवा बांबे बाजार में जमा होता गया और एक बड़े जुलूस में बदल गया। भगवा पताकाएं लहराते, ढोलक की तान पर झूमते युवा और अखाड़ों में करबत दिखाते कलाकारों को देखने के लिए भी जगह-जगह भीड़ लगती गई। बड़ी प्रतिमाओं के पदम कुंड पहुंचने का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। यहां के्रन के माध्यम से बड़ी प्रतिमाओं का विसर्जन हुआ।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned