सिंगाजी परियोजना की यूनिट तीन और चार से बिजली उत्पादन बंद

सुधार कार्य के लिए आएंगे जापान के इंजीनियर

By: tarunendra chauhan

Updated: 23 Sep 2020, 01:36 PM IST

बीड़. सिंगाजी ताप परियोजना की यूनिट 3 के एचपी टरबाइन की लास्ट स्टेज की दो से ज्यादा ब्लेड टूटने से यह बंद हो गई है। अगस्त माह की पांच तारीख को एचपी टरबाइन में प्ले आ गया था। जब इसे खोला गया तो दो ब्लेड टूटी हुई मिली। वहीं यूनिट 4 को भी बंद करना पड़ा है। यह यूनिक पिछले दो माह से बिजली का उत्पादन कर रही थी। अब इसकी भी जांच की जाएगी। इसके टरबाइन में भी यदि यूनिट 3 की तरह की खराबी आ गई तो लंबे समय तक इन दोनों ही यूनिट से बिजली का उत्पादन नहीं हो सकेगा। इससे करोड़ों रुपए का नुकसान होगा।

दो माह पहले भी आई थी खराबी
2 महीने पहले भी यूनिट 4 का पीए फैन का बेरिंग प्ले आने के कारण डैमेज हो गया था। जानकारी के अनुसार बिजली उत्पादन के लिए फैन मेंटेनेंस भी करना होता है। यह कार्य यूनिट 3 और 4 में शशि चौकसे कंपनी कर रही है। जानकारी के अनुसार यूनिट 4 के पीए फैन जिसका काम वातावरण से एयर को लेकर कोल मिल से बॉयलर तक पहुंचाने का होता है। 2 महीने पहले इसके भी बेरिंग में प्ले आ गया था जिसके कारण पी ए फैन का बेरिंग डैमेज हो गया था। इसके चलते यूनिट 4 को 15 दिन तक अपनी क्षमता से आधे लोड पर चलाना पड़ा। इस दौरान करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ था, लेकिन फैन मेंटेनेंस के कार्य कर रही कंपनी पर विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। वहीं इसी कंपनी से फेस वन और फेस 2 दोनों का कार्य करवाना कंपनी पर बड़ी मेहरबानी का संकेत देता है। बता दें कि शशि चौकसे कंपनी का मेंटेनेंस का कार्य भी फेस 1 फेस 2 में फैन सर्किट करना है आश्चर्य उस समय होता है जब यह कंपनी फेस वन में साढ़े 5 लाख रुपए प्रतिमाह के लगभग कार्य कर रही है तो फेस टू में 9 लाख 50 हजार रुपए प्रतिमाह कार्य कर रही है।

सुबह से शाम तक परियोजना में चलता रहा बैठकों का दौर: इकाई 4 के भी बंद हो जाने के बाद परियोजना के एडमिन बिल्डिंग में सुबह से ही यूनिट को जल्दी खोलने और देखने के लिए निर्माता कंपनी एलएनटी के अधिकारियों के साथ पावर जेनरेटिंग कंपनी के अधिकारियों की बैठकों का दौर चलता रहा। एनटीपीसी के कुछ अधिकारी जो इकाई 3 के टरबाइन को देखने आए थे वह भी आज अपनी जांच रिपोर्ट आगे पहुंचा सकते हैं। आने वाले 2 से 3 दिनों में जापान से इंजीनियरों की टीम के आने की पूरी संभावना है। बता दें कि फेस 2 की टरबाइन एलएलटी जी कंपनी के द्वारा बनाकर दी गई है और 25 साल चलने वाली टरबाइन 2 साल भी नहीं चल पाई। इससे कंपनी पर भी कई सवाल उठ रहे हैं। जबकि इस समय प्रदेश को इस परियोजना से होने वाले बिजली उत्पादन की बहुत सख्त जरूरत है और तकनीकी खराबी होने के चलते यह इकाई बिजली उत्पादन नहीं कर पा रही है।

इकाई 4 को तकनीकी खराबी आने के कारण बंद किया गया है। इसका सुधार कार्य एलएनटी के द्वारा किया जाएगा
वी के कैलासिया, मुख्य अभियंता सिंगाजी ताप परियोजना

tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned