आरटीओ की कार्रवाई से नाराज संचालकों ने नहीं चलाई बसें, यात्री सिर पर सामान रख गंतव्य तक पहुंचे पैदल

कार्रवाई पर बवाल...
आरटीओ की कार्रवाई के विरोध में संचालकों ने बसों की आवाजाही रोकी, यात्री हुए परेशान, सिर पर गठरी रख पैदल किया सफर
-आरटीओ ने कहा- बिना फिटनेस, दस्तावेज वाहनों पर की कार्रवाई, संचालक बोले- यह गलत, अपराधिक मामलों में आरोपी को भी कोर्ट अपना पक्ष रखने का देती है मौका, यहां आरटीओ ने की एक तरफा कार्रवाई

By: Gopal Joshi

Published: 21 Feb 2021, 07:42 PM IST

खरगोन.
आरटीओ बरखा गौड़ ने शुक्रवार को सड़क पर उतरकर उन बसों पर कार्रवाई की जिनके दस्तावेज पूर्ण नहीं थे। कुछ वाहन संचालकों से समन शुल्क वसूला और कुछ वाहन जब्त किए। कार्रवाई के विरोध में बस संचालकों ने रविवार को बसों की आवाजाही रोक दी। जिला मुख्यालय से निकलने वाले ४० अलग-अलग रुट पर एक भी बस नहीं चली। इससे यात्रियों को खासा परेशान होना पड़ा। बसों का घंटों इंतजार करने के बाद आखिरकार सिर पर गठरी रख पैदल ही रास्ता नापा।
जिला बस एसोसिएशन अध्यक्ष राजेंद्रपालसिंह भाटिया ने बताया यह सांकेतिक बंद आरटीओ की कार्रवाई के खिलाफ था। भाटिया ने कहा- सेंट्रल गवर्नमेंट ने बसों के दस्तावेज ३१ मार्च तक जब वैध बताए हैं तो फिर बसों की जब्ती करना कहां तक उचित है। उन्होंने यह भी कहा- कि ३०२ के आरोपी को भी अदालत अपना पक्ष रखने का मौका देती है तो फिर हमारी बात भी सुननी चाहिए। बस जब्ती की कार्रवाई का असर संचालक पर ही नहीं चालक-परिचालक पर भी होती है। यात्रियों को परेशान होना पड़ता है।

बस बंद, यात्रियों की मशक्कत
रविवार सुबह से शाम तक बस स्टैंड पर एक भी बस नहीं आई। यात्री घंटों परेशान होते रहे। भगवानपुरा क्षेत्र के लक्ष्मण, शांताबाई, दुर्गेश व जागृति मजबूरीवश सिर पर गठरियां रख पैदल ही निकले। इटारसी जाने वाले भरत वर्मा ने बताया उनका रेलवे रिजर्वेशन था, लेकिन खंडवा तक जाने के लिए बस नहीं नहीं मिली। मजबूरी में प्रायवेट वाहन कर जाना पड़ा।

आज से दौड़ेंगी बसें
भाटिया ने बताया यह सांकेतिक रूप से एक दिन का बंद था। सोमवार से बसों का संचालन शुरू हो जाएगा। उल्लेखनीय है कि जिला मुख्यालय से अलग-अलग रुट पर करीब ४५० बसें नियमित चलती है। एक दिन बंद होने से करीब 3.60 करोड़ का कारोबार भी प्रभावित हुआ है।

आरटीओ से सीधी बात
प्रश्न : आरटीओ कार्रवाई को संचालक गलत बता रहे हैं।
जवाब : कार्रवाई गलत नहीं है। चालान बनाने की स्थिति होती तो वह करते।
प्रश्न : आगे क्या कार्रवाई होगी।
जवाब : कार्रवाई लगातार जारी रहेगी। रविवार को भी विजिट किया है।
प्रश्न : दस्तावेज ३१ मार्च तक वैध है क्या।
जवाब : ये उन लोगों के लिए थे जो बनवा नहीं पाए। अब पूरी क्षमता से वाहन चल रहे हैं। दस्तावेज बनवाना चाहिए।
-जिन बसों को जब्त किया है, उसमें क्या कार्रवाई होगी।
जवाब : जुर्माना कर छोड़ देंगे। संचालकों से बात करेंगे।

Gopal Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned