मुहिम से मिला बल, पांच हजार कनेक्शन किए वैध

जलदाय विभाग का अभियान जारी

लगाए मीटर, होगी बिलों की वसूली

By: kali charan

Published: 10 Aug 2020, 08:43 PM IST

मदनगंज-किशनगढ.

ज़लदाय विभाग ने लॉकडाउन के बाद से अभियान छेडकऱ करीब 5000 अवैध और आधार कार्ड के आधार पर दिए गए कनेक्शनों को अभी तक वैध कर दिया है। इनके मीटर लगा दिए गए है और नियमित बिल भेजना शुरू कर दिया गया है। इससे विभाग का राजस्व भी बढ़ेगा।

जलदाय विभाग की ओर से अवैध और अस्थायी आधार पर दिए गए कनेक्शनों को वैध करने का अभियान छेड़ा हुआ है। इस अभियान के अंतर्गत अभी तक लगभग 5000 कनेक्शनों को वैध किया जा चुका है। इन सभी के मीटर लगाए जा चुके है और बिल भेजना भी शुरू कर दिया गया है।

विभाग की ओर से मुख्य रूप से सांवतसर, ब्रजविहार कॉलोनी, रजिया कॉलोनी, बजरंग कॉलोनी, पुराना शहर और नया शहर से बाहर की कॉलोनियां और अन्य बाहरी क्षेत्रों में बसी कॉलोनियों में इस संबंध में सर्वे किया जाता है और जिन कनेक्शन धारकों के मीटर नहीं है और जो नियमित नहीं है।

ऐसे सभी कनेक्शन धारकों को नोटिस देकर और समझाइश कर नियमितीकरण की प्रक्रिया शुरू करने के लिए कहा जाता है। इससे दस्तावेजों के आधार पर फाइल लगती है और डिमांड नोट जारी कर मीटर लगाया जाता है। गत जुलाई माह में ही लगभग 1000 कनेक्शनधारकों ने नियमितीकरण की प्रक्रिया पूरी करवाई है।कम होगी पानी की बर्बादीकनेक्शन नियमित होने और मीटर लगने से पानी की बर्बादी कम होगी। इससे सडक़ों पर गलियों में लोग पानी बेकार नहीं बहाएंगे। इसकारण पेयजल की बचत होगी। इससे लोगों को पर्याप्त पानी की आपूर्ति प्रेशर से की जा सकेगी।निगम का बढ़ेगा राजस्व

इस अभियान से जलदाय विभाग का राजस्व बढ़ेगा। कनेक्शन नियमित के लिए शुल्क मिलने और मीटर लगने के बाद नियमित रूप से बिल की वसूली होने से विभाग का राजस्व बढ़ेगा। इससे जलदाय विभाग को भी अपने कनेक्शनों की जानकारी के हिसाब से योजना बनाने और लागू करने में आसानी रहेगी।

इनका कहना है-

अवैध रूप में और अस्थायी कनेक्शनों को नियमित किया जा रहा है। अभी तक लगभग 5000 कनेक्शनों की मीटरिंग की जा चुकी है और नियमित रूप से बिल भेजा जाता है। यह अभियान जारी रहेगा।

-एस.एल.जीनगर, अधिशाषी अभियंता, जलदाय विभाग, किशनगढ़।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned