गजराज की मौत के बाद सिर पर तिलक लगा ग्रामीणों ने की पूजा

WEST BENGAL NEWS: After Gajraj's death, the villagers worshiped Tilak on his head, बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले के शालबनी की घटना, मृत हाथी के सिर पर सिन्दूर का तिलक लगाया, भजन--कीर्तन

कोलकाता/खडग़पुर. पश्चिम बंगाल में एक गजराज की मौत के बाद सिर पर तिलक लगाकर ग्रामीणों ने पूजा-पाठ की। पश्चिम मेदिनीपुर जिलान्तर्गत शालबनी थाने के भादूतला रेंज के जोड़ाकुसुम गांव से सटे बाघमारी जंगल में एक हाथी की मौत हो गई। जंगल में लकड़ी काटने गए लोगों ने मंगलवार को हाथी का शव जंगल में देखा तो सूचना वन विभाग को दी। हाथी के जंगल में मौत की सूचना जोड़ाकुसुम और आसपास गांवों में जंगल की आग की तरह फैली। जंगल में हाथी के शव देखने ग्रामीणों का हुजुम उमड़ा और कुछ ग्रामीणों ने मृत हाथी के सिर पर सिन्दूर का तिलक लगाकर पूजा-पाठ करते हुए भजन कीर्तन भी शुरू कर दिया। सूचना मिलते ही वन अधिकारी जंगल में पहुंचे औरमृत हाथी के शव को कब्जे में किया। पीडाकाटा रेंज के रेंजर पापन महतो का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से हाथियों का दल इलाके में उत्पात मचा रहा था। इसी क्रम में अचानक हाथी की मौत हो गई। फिलहाल मौत का सटीक कारण मालूम नहीं हो सका है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हाथी के मौत का सही कारण मालूम हो पाएगा। उनके अनुसार मौत का एक कारण बीमारभी संभव है। वहीं ग्रामीणों ने वन विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि हाथी कई दिन से बीमार था और वन विभाग ने ठीक तरह से उपचार नहीं कराया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि वन विभाग के लापरवाही के कारण ही हाथी की मौत हुई। मृत हाथी के शव का पोस्टमार्टम के बाद वन कर्मियों ने जंगल से कुछ दूर शव को पंचतत्व में विलीन कर दिया।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned