PATRIKA XCLUSIVE: कभी देश के लिए जीता सोना, आज मदद को मोहताज, जानिए यहां...

सीएम से एमपी तक लगाई गुहार, कोई नहीं आया आगे, वल्र्ड डांस ओलंपियाड में गोल्ड मेडल प्राप्त अमर ने बयां की पीड़ा

 

 

PATRIKA XCLUSIVE: KOLKATA YOUTH AMAR GET GOLD IN MASCOW--- कोलकाता (शिशिर शरण राही). वैसे तो देश में प्रतिभाओं को निखारने के लिए केंद्र या राज्य सरकार बड़े दावे करती है। खेलो इंडिया जैसे कई सरकारी अभियानों को बढ़ाचढ़ा पेश किया जाता है जबकि हकीकत इसके ठीक विपरीत है। मामला कोलकाता के युवा अमर गुप्ता का है, जिसने मॉस्को में स्ट्रीट वल्र्ड डांस ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीत भारत का नाम रोशन किया। अमर की इस उपलब्धि को जहां विदेशों ने माथे पर बिठा इज्जत-स्नेह दिया वहीं खुद अपने ही देश और होमसिटी में उसे कोई मान-सम्मान नहीं मिला। सरकार की बेरुखी से हताश और निराश अमर ने राजस्थान पत्रिका से अपने मन की व्यथा बयां की। कोलकाता के उल्टाडांगा निवासी अनिल कुमार गुप्ता के पुत्र अमर ने अपने हुनर व प्रतिभा के बल पर अमरीका के लॉस वेगास में आयोजित विश्व हिपहॉप डांस चैंपियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व किया था।

मुख्यमंत्री ममता के निवास स्थान से लेकर कई मंत्रियों तक लिखित पत्र दे गुहार लगाई
हिपहॉप डांस को पश्चिम बंगाल में बढ़ावा देने के लिए उसने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निवास स्थान से लेकर बंगाल सरकार के कई मंत्रियों तक लिखित पत्र दे गुहार लगाई। उसने हताश-निराश भरे स्वर में कहा कि सबसे ज्यादा उसे दुख इस बात का है कि बंगाल के तमाम आला अधिकारियों से लेकर भाजपा नेताओं तक फरियाद लगाने के बावजूद आजतक उसकी मदद के लिए अब तक कोई आगे नहीं आया न ही किसी ने उसकी सुध ली। अमर ने कहा कि केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को इसने 3 खत भेजे, कोई जवाब नहीं मिला। इसी साल जून में सीएम ममता के निवास जाकर मेयर फिरहाद हकीम को हाथ में पत्र भी थमाया और अपनी पीड़ा सुनाई। करीब 3 बार नवान्न भी जाकर मदद की गुहार लगाई। फिलहाल उसके पिता का व्यापार भी बंद पड़ा है और उसे गंभीर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।

55 देशों की टीम ने मेजबानी की
इस प्रतियोगिता में 55 देशों की टीम ने मेजबानी की और भारत से इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले अमर एकमात्र था। मॉस्को में स्ट्रीट डांस वल्र्ड डांस कप वल्र्ड डांस ओलंपियाड-२०१७ में उसने दुनिया की 55 टीमों को धूल चटाकर भारत का परचम लहराया। भारत से सिर्फ और सिर्फ अमर को ही इस प्रतियोगिता के लिए चयनित किया गया था।

पहला भारतीय
अमर पहला भारतीय है जिसने सोलो डांस की बदौलत विश्व चैंपियनशिप में 2 गोल्ड मेडल हासिल किए। यह प्रतियोगिता पिछले 14 वर्षों से रूस में आयोजित हो रही है। बिना नेशनल, स्टेट स्तर प्रतियोगिता में भाग लिए सीधे अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेने का अवसर अमर को प्रदान हुआ। सवालों के जवाब में अमर ने बताया कि स्वर्ण पदक हासिल करने के बाद स्वदेश लौटकर उसे बेहद खुशी हुई कि भारत का नाम हिपहॉप चैंपियनशिप में विश्व स्तर पर पहुंचाने में वह कामयाब रहा। यू-ट्यूब देख खुद को उसने विदेश जाने से पहले प्रशिक्षित किया था। इससे पहले १३ साल की आयु में कांकुडग़ाछी में डांस टीचर मनीष दास ने उसे गुर सीखाए।

Shishir Sharan Rahi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned