Now An IPS will kept his eyes on Doctores every time in Kolkata ममता सरकार का जबर्दस्त निर्णय

Now An IPS will kept his eyes on Doctores every time in Kolkata ममता सरकार का जबर्दस्त निर्णय

Krishna Das Parth | Publish: Jun, 19 2019 12:14:53 AM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

महानगर के मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों में पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था लागू
-डीसी स्तर के अधिकारी को बनाया गया नोडल ऑफिसर
-प्रत्येक अस्पताल में तैनात होगें एसीपी पद के अधिकारी
-शुरू किए गए टोल फ्री नम्बर
-कोई भी फोनकर दर्ज करा सकता है शिकायत
-अस्पतालों में लगाए जाएंगे अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे

कोलकाता
जूनियर चिकित्सकों की मांग पर राज्य सरकार ने महानगर के सभी मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों में पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था लागू कर दी है। मंगलवार को कोलकाता पुलिस मुख्यालय में पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा के नेतृत्व में इस सिलसिले में एक बैठक की गई, जिसमें पुलिस के कई आला अधिकारियों ने हिस्सा लिया। बैठक में कोलकाता पुलिस के दायरे में आने वाले 6 मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों की सुरक्षा पांच स्तरीय करने का निर्णय लिया गया।
अस्पतालों की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखने के लिए के लिए डीसी कॉमबैट नवीन्दर सिंह को नोडल ऑफिसर बनाया गया है। वहीं प्रत्येक अस्पताल में एसीपी पद के अधिकारी को तैनात किया गया है। ये अधिकारी प्रति 2 घंटे पर नोडल ऑफिसर को अस्पताल की गतिविधियों के बारे में जानकारी देंगे। इसके अलावा थाना प्रभारी का नोडल अधिकारी के साथ सीधा सम्पर्क करने के लिए कम्युनिकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने पर जोर दिया गया है।

लगाए जाएंगे अतिरिक्त सीसीटवी कैमरे और अलार्म

लालबाजार के सूत्रों के मुताबिक अस्पतालों में अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। अस्पतालों में लगे सीसीटीवी कैमरे को अपग्रेड किया जाएगा। सीसीटीवी कैमरे के फीड को आउट पोस्ट व स्थानीय थाने से लिंक किया जाएगा। जिन अस्पतालों में सीसीटीवी कैमरे की संख्या कम है, उन अस्पतालों में अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इस संबंध में हेल्थ डिपार्टमेंट अस्पतालों का जायजा ले रहा है। सुरक्षा के लिहाज से अस्पताल में सीसीटीवी कहां-कहां लगाए जाएंगे यह कोलकाता पुलिस तय करेगी। इसके अलावा अस्पतालों में पैनिक बटम अलार्म लगाया जाएगा। असुरक्षा महसूस करने के पर चिकित्सक व अस्पताल कर्मी अलार्म बजाकर प्रशासन को जानकारी दे सकते हैं।

शुरू की गई टोल फ्री सेवा

अस्पताल से संबंधी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए कोलकाता पुलिस ने टोल फ्री नम्बर-18003458246 शुरू की है। इस नम्बर पर कोई भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। टोल फ्री नम्बर पर मिलने वाली शिकायतों पर प्रशासन तत्काल कार्रवाई करेगा। मालूम हो कि यह टोल फ्री नम्बर केवल कोलकाता पुलिस क्षेत्र में आने वाले 6 मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों के लिए शुरू किया गया है। अन्य जिलों से इस नम्बर पर शिकायत मिलने पर कोलकाता पुलिस जिला पुलिस को अवगत करा देगी।

अस्पतालों में बढ़ाए जाएंगे सुरक्षाकर्मी

कोलकाता पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि अस्पतालों की सुरक्षा के लिए सुरक्षाकर्मी बढ़ाए जाएंगे। एनआरएस को छोड़ कर अन्य अस्पतालों में सुरक्षाकर्मी की कमी देखी जा रही है। इस कमी को जल्द से जल्द ठीक किया जाएगा। अस्पतालों की सुरक्षा में 1 इस्पेक्टर, 12 कांस्टेबल, होम गार्ड, सिविक वालेंटियर और अस्पताल के सिक्योरिटी गार्ड की संख्या बढ़ाई जाएंगी।

अस्पतालों में तैनात एसीपी के नाम

कलकत्ता मेडिकल कॉलेज- एमआर सरदार

एसएसकेएम- जगदीश जाना
एनआरएस- असीम दास

सीएनएमसी- बासुदेव बनर्जी
बीसी रॉय आईडी अस्पताल- सौमेन भट्टाचार्य

आरजीकर- सुबल मंडल

महानगर के मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों में पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था लागू
-डीसी स्तर के अधिकारी को बनाया गया नोडल ऑफिसर
-प्रत्येक अस्पताल में तैनात होगें एसीपी पद के अधिकारी
-शुरू किए गए टोल फ्री नम्बर
-कोई भी फोनकर दर्ज करा सकता है शिकायत
-अस्पतालों में लगाए जाएंगे अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे

कोलकाता
जूनियर चिकित्सकों की मांग पर राज्य सरकार ने महानगर के सभी मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों में पांच स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था लागू कर दी है। मंगलवार को कोलकाता पुलिस मुख्यालय में पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा के नेतृत्व में इस सिलसिले में एक बैठक की गई, जिसमें पुलिस के कई आला अधिकारियों ने हिस्सा लिया। बैठक में कोलकाता पुलिस के दायरे में आने वाले 6 मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों की सुरक्षा पांच स्तरीय करने का निर्णय लिया गया।
अस्पतालों की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखने के लिए के लिए डीसी कॉमबैट नवीन्दर सिंह को नोडल ऑफिसर बनाया गया है। वहीं प्रत्येक अस्पताल में एसीपी पद के अधिकारी को तैनात किया गया है। ये अधिकारी प्रति 2 घंटे पर नोडल ऑफिसर को अस्पताल की गतिविधियों के बारे में जानकारी देंगे। इसके अलावा थाना प्रभारी का नोडल अधिकारी के साथ सीधा सम्पर्क करने के लिए कम्युनिकेशन सिस्टम को बेहतर बनाने पर जोर दिया गया है।

लगाए जाएंगे अतिरिक्त सीसीटवी कैमरे और अलार्म

लालबाजार के सूत्रों के मुताबिक अस्पतालों में अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। अस्पतालों में लगे सीसीटीवी कैमरे को अपग्रेड किया जाएगा। सीसीटीवी कैमरे के फीड को आउट पोस्ट व स्थानीय थाने से लिंक किया जाएगा। जिन अस्पतालों में सीसीटीवी कैमरे की संख्या कम है, उन अस्पतालों में अतिरिक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इस संबंध में हेल्थ डिपार्टमेंट अस्पतालों का जायजा ले रहा है। सुरक्षा के लिहाज से अस्पताल में सीसीटीवी कहां-कहां लगाए जाएंगे यह कोलकाता पुलिस तय करेगी। इसके अलावा अस्पतालों में पैनिक बटम अलार्म लगाया जाएगा। असुरक्षा महसूस करने के पर चिकित्सक व अस्पताल कर्मी अलार्म बजाकर प्रशासन को जानकारी दे सकते हैं।

शुरू की गई टोल फ्री सेवा

अस्पताल से संबंधी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए कोलकाता पुलिस ने टोल फ्री नम्बर-18003458246 शुरू की है। इस नम्बर पर कोई भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। टोल फ्री नम्बर पर मिलने वाली शिकायतों पर प्रशासन तत्काल कार्रवाई करेगा। मालूम हो कि यह टोल फ्री नम्बर केवल कोलकाता पुलिस क्षेत्र में आने वाले 6 मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों के लिए शुरू किया गया है। अन्य जिलों से इस नम्बर पर शिकायत मिलने पर कोलकाता पुलिस जिला पुलिस को अवगत करा देगी।

अस्पतालों में बढ़ाए जाएंगे सुरक्षाकर्मी

कोलकाता पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि अस्पतालों की सुरक्षा के लिए सुरक्षाकर्मी बढ़ाए जाएंगे। एनआरएस को छोड़ कर अन्य अस्पतालों में सुरक्षाकर्मी की कमी देखी जा रही है। इस कमी को जल्द से जल्द ठीक किया जाएगा। अस्पतालों की सुरक्षा में 1 इस्पेक्टर, 12 कांस्टेबल, होम गार्ड, सिविक वालेंटियर और अस्पताल के सिक्योरिटी गार्ड की संख्या बढ़ाई जाएंगी।

अस्पतालों में तैनात एसीपी के नाम

कलकत्ता मेडिकल कॉलेज- एमआर सरदार

एसएसकेएम- जगदीश जाना
एनआरएस- असीम दास

सीएनएमसी- बासुदेव बनर्जी
बीसी रॉय आईडी अस्पताल- सौमेन भट्टाचार्य

आरजीकर- सुबल मंडल

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned