माओवादी के निशाने पर वन अधिकारी, पोस्टल लगा कर हत्या की दी धमकी

- पांच दिनों पहले थाने में चिपका मिला था पोस्टर

By: Vanita Jharkhandi

Published: 17 Apr 2021, 06:48 PM IST



पुरुलिया
पुरुलिया में फिर से माओवादी का आतंक फैलता दिख रहा है। गुरुवार को माओवादी पोस्टर मिले जिसमें वन विभाग के अधिकारी को मारने की धमकी दी है। मालूम हो कि पांच दिनों पहले सरकारी कार्यों से नाखुश होकर थाने के दरवाजे पर लगाया था पोस्टर। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। पुलिस के बाद वन अधिकारी इस बार निशाना बना रहे हैं। रेंज अधिकारी को पुरुलिया में 'माओवादी' पोस्टर को मारने की धमकी दी है। पुलिस ने गुरुवार को बाघमुंडी रेंज कार्यालय की दीवार पर हिंदी में श्वेत पत्र पर लाल स्याही से लिखा पोस्टर बरामद किया। कुछ दिनों पहले झालदा-कोटशिला इलाके में माओवादी पोस्टर लगे थे। इस बार, पांच दिन बाद, जिस तरह से 'माओवादी' नाम का एक पोस्टर एक सरकारी अधिकारी को निशाना बनाते हुए मिलने से पुरुलिया के जंगल में फिर से दहशत देखा जा जा रहा है। सूत्रों के अनुसार
बरामद पोस्टर में, बाघमुंडी रेंज अधिकारी आलमगीर हक को चेतावनी दी गई थी कि उन्होंने दस दिनों के अन्दर बाघमुंडी को नहीं छोड़ा, तो उनका 'शरीर' बांध के पानी में मिल जाएगा। नक्सलियों ने शाम 5 बजे से सुबह 6 बजे तक कार्यालय से बाहर न निकलने का फतवा भी जारी किया है। हालांकि, पुलिस सूत्रों ने कहा कि हिंदी में लिखे गए माओवादी पोस्टर को लेकर बहुत भ्रम है। पुलिस इस माओवादी पोस्टर को हल्के में नहीं ले रही है। पुरुलिया के पुलिस अधीक्षक विश्वजीत महतो ने कहा कि हिंदी में लिखा गया एक पोस्टर मिला है। घटना की जांच की जा रही है। इस बार पोस्टर मेले में सरकारी अधिकारी को धमकी देकर पुलिस दबाव में आ गई है। नक्सलियों ने पिछले दिनों जिले में वन विभाग के डीएफओ को भी निशाना बनाया।
पुरुलिया डिवीजन के नए डीएफओ देबाशीष शर्मा ने कहा, 'हमने पुलिस को मामले की जानकारी दी है। विभाग की ओर से घटना की जांच की जा रही है। पोस्टर के अनुसार, जंगल से सूखी लकड़ी लाने की कोशिश करने पर महिलाओं को प्रताड़ित किया जा रहा है। लेकिन वाहनों में भर कार लकड़ी की तस्करी की जा रही है। ऐसा पोस्टर में लिखा है। बाघमुंडी रेंज की हालत दस साल पहले जैसी नहीं थी! रेंजर आलमगीर हक ने कहा, "यह पोस्टर नक्सलियों के लिए नहीं है।" हालांकि, पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned