Big shock: ऐसा गम कि चली गई जान

Big shock: ऐसा गम कि चली गई जान

Rabindra Rai | Updated: 12 Jul 2019, 09:55:16 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

England के मैनचेस्टर के ओल्ड टैफर्ड ग्राउंड परworld Cup के सेमीफाइनल मुकाबले के दौरान Ravindra Jadeja and MS Dhoni की शानदार साझेदारी ने भारत की उम्मीदें जगा दी थीं।

हुगली
भारत में क्रिकेट को लेकर कितना जुनून है यह सब हम भलीभांति जानते हैं। खेलों में क्रिकेट ही एक ऐसा खेल है जो हमें विश्व के हर कोने में भारत का तिरंगा लहराने का मौका देता है। शायद यही कारण है कि क्रिकेट से हर देशवासी को खास लगाव है। यह लगाव देश या विदेश हम हर मैदान पर देख सकते हैं। इंग्लैंड के मैनचेस्टर के ओल्ड टैफर्ड ग्राउंड पर विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले के दौरान रवीन्द्र जडेजा और एमएस धोनी की शानदार साझेदारी ने भारत की उम्मीदें जगा दी थीं। जडेजा और धोनी ने 7वें विकेट के लिए शतकीय साझेदारी की और दोनों के बल्ले से निकल रहे एक-एक रन से टीम इंडिया को फाइनल का टिकट दूर नहीं नजर आ रहा था। लेकिन पहले जडेजा और फिर धोनी के रन आउट होने से प्रशंसक निराशा के भंवर में चले गए। विश्व कप से भारत के बाहर होने का सदमा पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के खानाकुल के सिकंदरपुर इलाके का एक प्रशंसक नहीं झेल सका और उसकी मौत हो गई। भारत-न्यूजीलैंड का यह रोमांचक मुकाबला जब क्लाइमेक्स पर था उस वक्त खानाकुल में गैरेज मालिक श्रीकांत माइती (३३) अपनी दुकान में बैठे मोबाइल पर मैच देख रहे थे। आखिरी 11 गेंदों में भारत को 25 रन चाहिए थे। 49वें ओवर की दूसरी गेंद पर कोई रन नहीं बना। तीसरी गेंद पर धोनी एक रन तेजी से दौड़े और दूसरे के लिए उसी तेजी से लौटे। लेकिन मार्टिन गप्टिल का सीधा थ्रो विकेट उखाड़ चुका था और धोनी पलक झपकते ही रन आउट हो गए। गप्टिल के इस थ्रो ने टीम इंडिया की उम्मीदों और करोड़ों भारतीय प्रशंसकों के सपनों को तोड़ दिया। श्रीकांत भी यह सदमा सहन नहीं कर सके और धोनी के आउट होने के तुरंत बाद दुकान के अंदर ही उनकी सांसें थम गईं।
इलाके में मिठाई की दुकान चलाने वाले सचिन घोष का कहना है कि तेज आवाज सुनने पर हम उनकी दुकान में मदद के लिए पहुंचे। हमने उन्हें जमीन पर मूर्छित अवस्था में गिरा हुआ देखा। हम उन्हें नजदीकी खानाकुल अस्पताल लेकर गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
भारत को आखिरी दो ओवरों में 31 रन चाहिए थे। धोनी ने फर्गुसन की पहली गेंद छक्के के लिये भेजी, लेकिन तेजी से दो रन चुराने के प्रयास में मार्टिन गुप्टिल के सीधे थ्रो पर रन आउट हो गये। विकेटों के बीच सबसे बेहतरीन दौड़ के लिये मशहूर धोनी अपने करियर के शुरू में भी रन आउट हुए थे। इसके बाद भारतीय पारी सिमटने में देर नहीं लगी
भारतीय पारी महज 221 रनों पर सिमट गई। न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 239 रन बनाए थे। भारत को 18 रनों से हराकर न्यूजीलैंड ने फाइनल में जगह बना ली। इस हार के साथ ही भारत का तीसरी बार विश्व कप खिताब जीतने का सपना भी चकनाचूर हो गया

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned