तृणमूल नेता की गाड़ी से मिली पिस्तौल, चालक गिरफ्तार

तृणमूल नेता की गाड़ी से मिली पिस्तौल, चालक गिरफ्तार

Vanita Jharkhandi | Publish: Sep, 05 2018 04:57:07 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

गाड़ी की तलाशी ली। जिसमें 9 एमएम की पिस्तौल बरामद हुई

 

बालूरघाट . दक्षिण दिनाजपुुर के एक प्रभावशाली तृणमूल नेता की गाड़ी से कारतूस भरी हुई पिस्तौल मिली है। बालूरघाट थाने की पुलिस ने गाड़ी चालक को गिरफ्तार कर लिया है। चालक का नाम सुमन दास (25) है। सुमन लम्बे समय से गंगारामपुर के तृणमूल नेता की गाड़ी चला रहा था। सूत्रों के अनुसार सुमन के पिता का देहान्त हो चुका है। मां लोगों के घरों में काम करती है। वह गाड़ी चलने का काम करता है। सोमवार की रात 12 बजे गाड़ी चला रहा था। पुलिस ने उसे रोककर पूछताछ की तो वह कुछ भयभीत दिखा। पुलिस को कुछ संदेह होने पर गाड़ी की तलाशी ली। जिसमें 9 एमएम की पिस्तौल बरामद हुई। पुलिस उससे पूछताछ कर रही।

 

राजनीति आम जनता की सबसे बड़ी दुश्मन: उषा किरण

कोलकाता . प्रभा खेतान फाउंडेशन की ओर से स्थापित साहित्य, संस्कृति को समर्पित मंच-कलम तथा ताजा टीवी के संयुक्त प्रयास से हिंदी तथा मैथिली की चर्चित कथाकार पद्मश्री उषा किरण खान , पार्क होटल के कक्ष में कोलकाता के लेखकों, पत्रकारों, छात्रों तथा कुछ चुनिंदा साहित्य प्रेमियों से मुखातिब थीं। लेखक से मिलिए कार्यक्रमके अंतर्गत उनसे मुख्य रूप से सवाल कर रहे थे वरिष्ठ पत्रकार विश्वम्भर नेवर। उन्होंने मिथिलांचल में आम जनजीवन , महिलाओं की स्थिति, गांवों के बदलते परिवेश, संविधान की आठवीं अनुसूची में भाषाओं को शामिल करना तथा उनकी रचना प्रक्रिया पर कई सवाल किए। जिसका उन्होंने बड़े ही सहज और सरल तरीके से जवाब देते हुए कहा कि जो कोई गांव के दु:ख दर्द की बात करेगा, शोषित लोगों को व्यथा को अपनी कहानी की विषय वस्तु बनाएगा तो निश्चित ही वो प्रेमचंद की परंपरा को आगे बढ़ा रहा होगा। उन्होंने कहा कि जहां गावों का परिवेश स्वच्छ और सरल था, वहीं आज की गंदी राजनीति ने वहां के माहौल को पूरी तरह प्रदूषित कर दिया है और जातिवाद की खाई को और चौड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा कि आज की राजनीति आम जनता की सबसे बड़ी दुश्मन है। लेखकों तथा छात्रों ने भी कई प्रश्न पूछे। मौके पर महत्वपूर्ण उपस्थित थी श्रीनिवास शर्मा, प्रेम कपूर, राज मिठौलिया, रावेल पुष्प, राज्यवर्धन, शबीना निशात उमर, सेराज ख़ान बातिश, अशोक झा, अल्पना नायक, वसुंधरा मिश्रा, शाहिद फऱोगी, उषा साव, आरती सिंह, रेखा श्रीवास्तव ,मनीष आनंद तथा अन्य। उषा किरण की सुपुत्री अनुप्रिया ने उनके हिंदी तथा मैथिली गीतों के कुछ अंश गाकर सुनाए।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned