script उधर राजनीतिक हलचल तेज, इधर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में | Political activity is intense, security agencies are in action. | Patrika News

उधर राजनीतिक हलचल तेज, इधर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में

locationकोलकाताPublished: Dec 19, 2023 04:19:58 pm

Submitted by:

Rabindra Rai

बांग्लादेश में अगले साल जनवरी में होने वाले आम चुनाव को लेकर जहां राजनीतिक हलचल तेज हो गई है, वहीं बिहार के मुंगेर में बनी पेन पिस्टल समेत अन्य हथियारों की आम चुनाव से पहले बांग्लादेश में तस्करी से सुरक्षा एजेंसियां हरकत में आ गई हैं। पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के बांग्लादेश सीमावर्ती क्षेत्र से हाल में चार पेन पिस्टल जब्त की गई है। पेन पिस्टल की तस्करी होने की खबर ने राज्य खुफिया पुलिस की नींद उड़ा दी है

उधर राजनीतिक हलचल तेज, इधर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में
उधर राजनीतिक हलचल तेज, इधर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में
बांग्लादेश में अगले साल जनवरी में आम चुनाव से पहले यह हो रहा
पड़ोसी देश बांग्लादेश में अगले साल जनवरी में होने वाले आम चुनाव को लेकर जहां राजनीतिक हलचल तेज हो गई है, वहीं बिहार के मुंगेर में बनी पेन पिस्टल समेत अन्य हथियारों की आम चुनाव से पहले बांग्लादेश में तस्करी से सुरक्षा एजेंसियां हरकत में आ गई हैं। पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के बांग्लादेश सीमावर्ती क्षेत्र से हाल में चार पेन पिस्टल जब्त की गई है। पेन पिस्टल की तस्करी होने की खबर ने राज्य खुफिया पुलिस की नींद उड़ा दी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार बिहार के मुंगेर से बंगाल में हाइटेक हथियारों की तस्करी तेज हो गई है। अपराधी बिहार से अवैध हथियारों की तस्करी बंगाल के रास्ते सीमा पार बांग्लादेश कर रहे हैं। हथियारों की तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए बंगाल पुलिस की एसटीएफ ने कमर कस ली है।
--
सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े
तस्करों के पास से अत्याधुनिक हथियारमिलने से सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं। खुफिया पुलिस विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पत्रिका को बताया कि गिरफ्तार तस्करों से मिली जानकारी के आधार पर खुफिया पुलिस ने बिहार के जमालपुर से तीन तस्करों के पास से सात पेन पिस्टल बरामद की। मुंगेर में निर्मित होने के कारण तस्करों ने इसे मुंगेरी पेन पिस्टल नाम दिया है। बंगाल खुफिया पुलिस से मिली सूचना पर बिहार पुलिस ने जमालपुर से उत्तर 24 परगना जिले के दो कुख्यात तस्कर अरमान और बिलाल को पेन पिस्टल के साथ गिरफ्तार किया। हालांकि अभी तक बंगाल में किसी भी तस्कर के पास से मुंगेरी पेन पिस्टल बरामद नहीं की गई है। एक खुफिया पुलिस अधिकारी ने बताया कि इससे पहले पेन पिस्टल की खेप बांग्लादेश भेजे जाने से इनकार नहीं किया जा सकता है।
--
इस्तेमाल हाई प्रोफाइल हत्या में
खुफिया पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पेन पिस्टल आम पेन से थोड़ी मोटी है। यह एक घातक हथियार है। हाई वैल्यू टार्गेट के लिए खासतौर पर इसका इस्तेमाल किया जाता है। यह एक साइलेंट किलर भी है। इस हथियार को पकड़ पाना बहुत मुश्किल होता है। पेन पिस्टल को अपराधी भीड़-भाड़ में बड़े आराम से लेकर चल सकते हैं, क्योंकि देखने में यह एक पेन की तरह दिखती है। इन पिस्टलों का इस्तेमाल हाई प्रोफाइल हत्या में किया जाता है। इसका इस्तेमाल शर्ट की जेब में रखकर अपराधी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका कारतूस बहुत ही छोटा होता है। इसको चलाना काफी आसान है। पेन का ढक्कन खोलकर कारतूस को डालकर, पुस करने के बाद यह फायर हो जाता है। यह हथियार किसी व्यक्ति की जान ले सकता है। आतंकी भी लोन उल्फ अटैक में इस्तेमाल कर सकते हैं।
--
दूसरे विश्व युद्ध के दौरान आया अस्तित्व में
दूसरे विश्व युद्ध के दौरान पेन पिस्टल का अस्तित्व सामने आया था। खुफिया एजेंसी इसका इस्तेमाल करती थी। मुंगेर में अवैध रूप से बनने वाली पिस्टल का इस्तेमाल आतंकी से लेकर नक्सली तक कर चुके हैं। हाल के वर्षों में जम्मू-कश्मीर और यूपी में बरामद पिस्टल का निर्माण मुंगेर के ही कारीगरों ने किया था। सस्ता और कारगर शाट होने के कारण मुंगेर में बने अवैध हथियारों की मांग बिहार के अलावा पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा सहित कई राज्यों में है।
--
पेन पिस्टल
कीमत प्रति पिस्टल 20 से 30 हजार रुपए
मारक क्षमता 10 फीट तक

ट्रेंडिंग वीडियो