मुझे ड्रैक्युला बताकर हिंदुओं का खून पीने वाला बताया गया-ममता

मुझे ड्रैक्युला बताकर हिंदुओं का खून पीने वाला बताया गया-ममता

Paritosh Dubey | Updated: 14 Jun 2019, 06:56:47 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

  • लगाया आरोप, 27 हजार करोड़ से जीता गया चुनाव
  • बोलीं, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पैसों को लेकर कोई बात नहीं
  • कहा, ईवीएम प्रोग्रामिंग कर जीत हुई हासिल

कोलकाता.

राज्य में भाजपा की आशातीत सफलता के बाद तेज हुई राजनीतिक हिंसा, तृणमूल कांग्रेस के नेता समर्थकों के पालाबदल, जूनियर सीनियर डॉक्टरों की हड़ताल और इस्तीफे से चरमराती चिकित्सा व्यवस्था जैसी समस्याओं से घिरीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने राज्य की मौजूदा स्थिति के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। एक बांग्ला न्यूज चैनल को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि चुनाव के काफी पहले से उन्हें सोशल मीडिया पर डै्रक्यूला की तरह पेश कर हिंदुओं का खून पीने वाला बताया गया। उन्होंने कहा कि केन्द्र में सत्ता पाई पार्टी ने २७ हजार करोड़ रुपए खर्च कर चुनाव जीते हैं। राज्य में मंत्रियों के चॉपर और धार्मिक संगठनों के वाहनों से पैसों को लाया गया, बांटा गया। सत्ताधारी पार्टी के जीत में ईवीएम की प्रोग्रामिंग का हाथ है।
जब उनसे यह पूछा गया कि तृणमूल ने भी तो आगामी चुनाव के लिए चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर से समझौता किया है, जो करोड़ों रुपए लेकर काम करते हैं तो उन्होंने कहा कि प्रशांत किशोर काम करेंगे लेकिन उनसे पैसे की कोई बात नहीं हुई है।

सिर्फ इसलिए कार्रवाई कर दूं क्योंकि वो मुस्लिम है
धार्मिक तुष्टीकरण के आरोप झेल रही ममता से जब बशीरहाट हिंसा के आरोपी शेख शाहजहान से संबंधित प्रश्र पूछा गया तो उन्होंने कहा कि क्या वे शाहजहान पर सिर्फ इसलिए कार्रवाई कर दें क्योंकि वो मुस्लिम हैं।

हां कुछ इलाकों में मुस्लिमों ने दिया बढ़ चढक़र वोट
अपने भतीजे और डायमंड हार्बर से सांसद अभिषेक बनर्जी की जीत के बाद कुल १९०० बूथों में से ३२३ पर २.५ लाख वोटों के अंतर पर पूछे गए सवाल पर तमतमाई ममता ने स्वीकार किया कि कुछ इलाकों में मुस्लिमों ने उनके प्रत्याशियों को बढ़चढ़ कर वोट दिया है। कुछ इलाकों में ऐसा भाजपा प्रत्याशियों के लिए हिंदुओं ने भी किया है। लेकिन सभी जगह ऐसा नहीं हुआ है।

कार्रवाई करूं इससे पहले बदल ले रहे पाला
पार्टी नेताओं के भ्रष्टाचार में लिप्त रहने के आरोपों पर ममता ने कहा कि उन्होंने इस समस्या से निजात पाने के लिए कई कदम उठाए हैं। कट मनी मांगने पर शिकायत के लिए हेेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। लेकिन समस्या यह है कि ऐसे नेता जिनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगते हैं उनपर कार्रवाई करने से पहले ही वे पाला बदल कर लेते हैं। राज्य के पुलिस प्रशासन के सत्ताधारी नेता मंत्रियों के साथ सहयोग नहीं करने के आरोप पर उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है। केन्द्र की सरकार में काबिज पार्टी पुलिस अधिकारियों को धमका रही है। जो ठीक नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned